पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अनदेखी:चौटाला हाईवे की नहीं बनी बरम, साइड देने को जगह न होने से हो रहे हादसे; फिर भी सुधार नहीं

डबवालीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चौटाला हाईवे किनारे टूटी बरम से बने गड्ढे और हादसा जनक स्थिति। - Dainik Bhaskar
चौटाला हाईवे किनारे टूटी बरम से बने गड्ढे और हादसा जनक स्थिति।
  • पंचायतों के बार-बार मांग करने पर भी नहीं उठाया जा रहा कोई कदम

शहर डबवाली से होकर पंजाब को राजस्थान से जोड़ने वाले नेशनल हाईवे 54 चौटाला रोड पर लगातार हादसे हो रहे हैं। हैवी वाहनों के सबसे ज्यादा ट्रैफिक वाली इस रोड पर हादसों को रोकने के लिए न रोड सेफ्टी केट आइज लगी है और न ही बरम बनाई बल्कि सेफ्टी साइन बोर्ड भी नहीं लगाए गए हैं। इससे वाहन चालकों ने नेशनल हाईवे और लोक निर्माण विभाग से रोड को सुरक्षित बनाए जाने की मांग की है।

वाहन चालक इकबाल सिंह, उमेद बिश्नोई, मेघराज खीचड़, विनोद कुमार, अमर सिंह, गगनदीप ने नहीं बताया कि चौटाला हाईवे सबसे संकरा होने के अलावा रोड के दोनों ओर की बरम नहीं बनाई होने से अचानक साइड देना भी मुश्किल है। इसके चलते हाईवे पर लगातार दुर्घटनाएं भी हो रही है।

एक दिन पहले ही शेरगढ़ के पास हुए हादसे में 7 लोग घायल हो चुके हैं जबकि हाईवे के बीच वेडिंग खेड़ा एरिया में जिप्सम ट्रक लोड अनलोड होने से धूल उड़ती रहती है और सकत्ता खेड़ा, अबुब शहर, सुखेरा खेड़ा व चौटाला के बीच भी कई बड़े हादसे हो चुके हैं।

संकरे हाईवे पर हैवी वाहनों का ट्रैफिक ज्यादा होने के चलते निजी और दुपहिया वाहनों को निकालना भी मुश्किल रहता है वही ओवरटेक करने और साइड देने के दौरान भी हादसे का खतरा रहता है। उल्लेखनीय है कि लोक निर्माण विभाग की ओर से 2 वर्ष पहले रोड के कुछ एरिया में पुनर्निर्माण करवाए जाने के दौरान बरम बनाने का बिल भी अदा कर दिया गया लेकिन अधिकारियों और ठेकेदार की मिलीभगत के चलते बरम अब तक नहीं बनाई गई है। इसके लिए हाईवे पर आने वाली पंचायतों की ओर से भी रोड को सुरक्षित बनाए जाने की मांग की जा चुकी है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें