पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

डेंगू का डंक:पानी की टंकी, फ्रिज की ट्रे और कूलर में पनप रहा डेंगू का लारवा इस महीने मिल चुके 6 केस, अफसर बोले : पानी न होने दें खड़ा

फतेहाबाद12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फतेहाबाद। डेंगू के लारवा की जांच करते स्वास्थ्य कर्मचारी। - Dainik Bhaskar
फतेहाबाद। डेंगू के लारवा की जांच करते स्वास्थ्य कर्मचारी।
  • डेंगू को लेकर स्वास्थ्य विभाग की टीमें कर रही घरों में जांच, विभाग का कहना साफ पानी में मिलता है डेंगू का लारवा, इसलिए फोगिंग की जरूरत नहीं
  • बढ़ रहे डेंगू के मरीज, जिले में अब तक 10 केसों की पुष्टि

शहरी एरिया के साथ-साथ गांवों में ही डेंगू केस मिल रहे हैं। रविवार को दो नए मरीजों की पुष्टि हुई है। वहीं इस महीने के दौरान 6 केस मिल चुके हैं। बरसाती सीजन के दौरान डेंगू के केसों के बढ़ने से चिंता सताने लगी है। वहीं स्वास्थ्य विभाग सकते हैं। विभाग की ओर से जिले भर में विभिन्न टीमों के जरिए घरों, दुकानों व विभिन्न संस्थानों में डेंगू का लारवा चेक करने को लेकर अभियान चला रहा है। लेकिन शहर के बीघड़ चौक के पास इंटरलॉक टाइल ब्रेकर की वजह से पानी रुका रहता।

इसी तरह से लालबत्ती चौक के पास, पुराना बस स्टैंड, दीन दयाल उपाध्याय पार्क, भट्टू रोड और विभिन्न जगहों पर बरसात के बाद कई दिनों तक पानी रुका रहता है। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक रविवार को दो केस मिलने के साथ ही इनकी संख्या 10 हो गई है।

विभाग की टीमों को फतेहाबाद शहर की कबीर बस्ती, आरके कॉलोनी, शक्ति नगर के अलावा बैजलपुर, बड़ोपल में डेंगू के मरीज मिले है। शहर में डेंगू का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग की माने तो लोग डेंगू को लेकर लापरवाही बरत रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने सभी कर्मचारियों को सख्त आदेश दिए गए है कि वह अपने-अपने इलाके में घरों में चैकिंग अभियान चलाए रखें।

ज्यादातर डेंगू का लारवा कूलर, फ्रिज व टंकी में मिला

विभाग के सर्वे में यह सामने आया है कि ज्यादा डेंगू का लारवा, घरों में पानी की टंकी या फ्रिज की ट्रे में मिल रहा है। ऐसे में लोगों को अपनी टंकी व फ्रिज की सफाई पर ध्यान देना होगा। इनकी सफाई करनी होगी। वहीं लोगों को अपने आस-पास खड़े पानी को लेकर भी ध्यान देना होगा। इसके लिए लोग विभाग को सूचना दे सकते हैं या खुद भी दवा लेकर उसमें डाल सकते हैं, जिससे डेंगू का लारवा आदि न पनपे।

2018 में डेंगू के 56 मरीज मिले थे

स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2018 में डेंगू के 56 मरीज थे। वर्ष 2019 में 29, वर्ष 2020 में 35 मरीज पाए गए थे। इस साल अब तक 10 मरीज मिल चुके है। इनमें एक स्वास्थ्य कर्मी भी डेंगू ग्रस्त मिल चुका है।

अक्टूबर तक चेकिंग अभियान जारी रहेगा

बढ़ते डेंगू के मरीजों को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा घर-घर जाकर कूलर, फ्रिज, टायर, गमले सहित अन्य चीजों की जांच कर रही है, जिससे डेंगू के लारवा का पता चल सके। यह चैकिंग अभियान अक्टूबर महीने तक चलेगा। गांव में आंगनवाड़ी वर्कर, एएनएम सहित अन्य टीमें पूरी निगरानी रख रही है।

लोग आस-पास पानी खड़ा न होने दे

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार डेंगू साफ पानी में फैलता है। बारिश में जगह-जगह पानी खड़ा न हो। इसे लेकर जन स्वास्थ्य विभाग को पत्र लिखा जाएगा। विभाग के मुताबिक डेंगू के लिए फोगिंग जरूरी नहीं होती है। डेंगू का लारवा साफ पानी में पनपता है। इसलिए आस-पास पानी खड़ा न होने दे। स्वास्थ्य विभाग लोगों से अपील कर रहा है कि वह फ्रिज, कूलर, गमलों की सफाई रखें।

3 महीने में एक लाख 11 हजार जगहों पर की जांच

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने 21 अप्रैल से अब तक 1 लाख 11 हजार जगहों को जांचा। 810 जगहों पर डेंगू का लारवा मिला। जिसके चलते 700 को नोटिस जारी किए। विभाग द्वारा 28 हजार 997 कूलर जांचे गए। जिसमें से 210 कूलर में डेंगू का लारवा मिला। इस तरह 65 हजार 824 पानी की टैंक जांचे गए। 150 जगह टंकियों में डेंगू का लारवा ता मिला। 10 हजार 113 होदी की जांच में 55 में, 43 हजार 10 कंटेनर व गमले जांचे तो 35 में लारवा मिला। वहीं 42 हजार 415 टायर भी जांचे गए। फ्रिज व ट्रे जांचने पर 80 में लारवा मिला।

डेंगू का लारवा मिले तो स्वास्थ्य विभाग को सूचना दें नागरिक

अगर कही डेंगू का लारवा मिले तो स्वास्थ्य विभाग को सूचना दे सकते है। उसमें टमीफोर्स दवाई डाली जाएगी। यह दवा आम नागरिक नहीं दी जा सकती। ऐसे में साधारण तरीका यह है कि मिट्टी का तेल डाल सकते हैं। जिससे लारवा खत्म किया जा सके। क्योंकि मिट्टी पानी को सुख लेती है और लारवा अपने आप खत्म हो जाएगा। जिस जगह या चीज में लारवा है, उस जगह से पानी निकाल दे तो ज्यादा बेहतर रहेगा।

डेंगू के 10 केस हुए : सीएमओ

जिले में डेंगू के 10 मरीज हो गए। टीम को सख्त आदेश दिए गए है कि वह जागरूकता में कोई लापरवाही न बरतें। लोगों से भी अपील है कि वह अपने आस पास सफाई रखे।''

-डॉ. वीरेश भूषण, सीएमओ।

खबरें और भी हैं...