पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

प्रशिक्षण शिविर:पराली को जमीन में मिलाने से बढ़ती है पोषक तत्वों की मात्रा : डाॅ. संताेष

फतेहाबाद11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कृषि विज्ञान केंद्र फतेहाबाद द्वारा फसल अवशेष प्रबंधन प्रोजेक्ट के तहत 5 दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का आयोजन केंद्र पर किया गया। यह प्रशिक्षण गोद लिए हुए गांव भिरडाना व धोलू के किसानों के लिए आयोजित किया गया। वरिष्ठ संयोजक डॉ. लक्ष्यवीर बैनीवाल ने किसानों से आह्वान किया कि वे फसल अवशेष को जलाने की बजाय उसका प्रबंधन मशीनों द्वारा करें ताकि जमीन की उर्वरा शक्ति बढ़े और मित्र कीट व सूक्ष्म जीवों की संख्या बढ़े। इस दौरान चौ. चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय से आए अभियंता डॉ. अनिल सिरोहा ने किसानों को फसल अवशेष प्रबंधन करने वाले कृषि यंत्रों के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

पौध रोग विशेषज्ञ डॉ. कुशल राज ने फसलों में आने वाली बीमारियों के बारे में बताया और किसानों से आग्रह किया कि वे बिजाई बीज उपचार के बाद ही करें। कीट वैज्ञानिक डॉ. दलीप ने फसलों में आने वाले कीटों के बारे में बताया वहीं मृदा वैज्ञानिक डॉ. संतोष कुमार ने यथास्थान फसल अवशेष प्रबंधन से मृदा स्वास्थ्य को होने वाले लाभों बारे जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि पराली को जमीन में मिलाने से पोषक तत्वों की मात्रा बढ़ती है, साथ ही मृदा की भौतिक, रसायनिक व जैविक गुणों में बढ़ोतरी होती है। सूत्र कृषि वैज्ञानिक डॉ. सरदूल मान ने पराली को जमीन में मिलाने व गेहूं की बिजाई के उपरांत आने वाली बीमारियों व कीटों के बारे में बताया। कृषि वैज्ञानिक डॉ. विकास हुड्डा ने पराली जलाने के कारण होने वाले प्रदूषण व स्वास्थ्य पर पडऩे पर दुष्प्रभाव के बारे में जानकारी दी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- यह समय विवेक और चतुराई से काम लेने का है। आपके पिछले कुछ समय से रुके हुए व अटके हुए काम पूरे होंगे। संतान के करियर और शिक्षा से संबंधित किसी समस्या का भी समाधान निकलेगा। अगर कोई वाहन खरीदने क...

और पढ़ें