नाराजगी / बिजली सुधार अधिनियम के खिलाफ कर्मियों ने काली पट्टी बांधकर किए धरने और प्रदर्शन

Demonstrations and demonstrations were carried out by the black band against the Power Reform Act
X
Demonstrations and demonstrations were carried out by the black band against the Power Reform Act

  • कर्मचारियों ने बिल के प्रति जताया रोष, बोले- बिजली का किया जा रहा निजिकरण

दैनिक भास्कर

Jun 02, 2020, 05:00 AM IST

फतेहाबाद. बिजली कर्मचारियों ने ऑल हरियाणा पावर कॉरपोरेशन वर्कर्स यूनियन के आह्वान पर बिजली सुधार अधिनियम 2020 के खिलाफ काला दिवस मनाया। बिजली कर्मचारियों ने काली पट्टी बांधकर सब यूनिट स्तर व यूनिट स्तर पर प्रदर्शन किया। फतेहाबाद, रतिया, भट्टू व बड़ोपल के कर्मचारियों ने इस प्रदर्शन में कर भाग लिया। कार्यक्रम की अध्यक्षता सुरेश कुमार ने की व संचालन अनिल सिसरिया ने किया।


राज्य वित्त सचिव अजय वशिष्ठ ने कहा कि बिजली निजीकरण के लिए केन्द्र की भाजपा सरकार इलेक्ट्रिसिटी अमेंडमेंट बिल 2020 संसद में पेश करने जा रही है जिसका मसौदा जारी किया गया है। संसद में पारित होने के बाद नया कानून अस्तित्व में आ जाएगा जिससे प्राइवेट वितरण कम्पनियों को लाइसेंस जारी किए जाएंगे। इससे बिजली की कीमतों में भारी इजाफा होगा। सर्कल सचिव भूप सिंह भड़ोलांवाली ने बिजली कर्मचारियों को संबोधित करते हुए कहा कि केन्द्र सरकार बिजली एक्ट 1948 में आमूल-चूल परिवर्तन करना चाहती है। सरकार किसानों को डायरेक्ट बैनिफिट ट्रांसफर का झांसा दे रही है जबकि पहले किसानों को अपनी जेब से 8 रुपये प्रति यूनिट के हिसाब से पूरा बिल देना होगा। अदा न करने पर कनेक्शन काट दिया जाएगा। इस अवसर पर रामनिवास शर्मा, अमित शर्मा, भाल सिंह, मलकियत सिंह, ओमप्रकाश, हरकिशन लाल कम्बोज, सुशील कुमार, संदीप कुमार सैनी मौजूद रहे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना