पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जागरूकता:कीटनाशकों का अधिक प्रयोग कपास फसल के लिए नुकसानदायक : कृष्ण

भट्टूकलां8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गांव बनावाली में बुधवार को किसान व पशु पालक गोष्ठी का आयोजन किया गया। गोष्ठी में पशुपालन विभाग व कृषि विभाग के अधिकारियों ने किसानों को नवीनतम तकनीकों के बारे में जानकारी दी। राजकीय पशु चिकित्सालय के इंचार्ज डॉ. मदन लेगा ने पशुपालकों को विभाग की विभिन्न स्कीमों के बारे में बताया। उन्होंने किसानों को पशु किसान क्रेडिट कार्ड के बारे में पशुपालकों को जागरूक किया।

उन्होंने कहा की कुछ दिनों में गलघोंटू व मुंह खुर का टीकाकरण भी पशुपालन विभाग की टीम द्वारा घर-घर जाकर किया जाएगा। कृषि विकास अधिकारी डॉ. कृष्ण उत्तम ने किसानों को कपास की अच्छी पैदावार लेने के लिए सुझाव बताते हुए कहा कि कीटनाशकों का अंधाधुंध प्रयोग कपास की फसल के लिए नुकसानदायक है।

उन्होंने किसानों को गेहूं की उन्नत खेती के बारे बताया तथा बीज उपचार पर विशेष ध्यान देने के लिए जागरूक किया। डॉ. सलिंद्र सहारण ने किसानों को फसल बीमा योजना व विभाग की विभिन्न योजनाओं के बारे में बताया। उन्होंने धान की पराली न जलाने के लिए आह्वान किया। डॉ. संजीव सहारण ने किसानों को सरसों की उन्नत खेती पर चर्चा की। डॉ. राजकुमार व रामनारायण ने किसानों को रबी फसलों में लगने वाले कीड़ों और बीमारियों के बारे में बताया।

किसान कृषि उपकरणों पर अनुदान के लिए 19 अक्टूबर तक पोर्टल पर अपलोड करें बिल : डीसी

डीसी डॉ. नरहरि सिंह बांगड़ ने बताया कि वर्ष 2020-21 के दौरान फसल अवशेष प्रबंधन स्कीम के तहत जिले के जिन किसानों ने कृषि यंत्रों पर व्यक्तिगत श्रेणी में 50 प्रतिशत अनुदान लेने के लिए आवेदन किया था, वे सभी आवेदक 19 अक्टूबर तक कृषि विभाग के पोर्टल डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डॉट एग्रीहरियाणासीआरएम डॉट कॉम पर बिल अपलोड करें। उपायुक्त डॉ. बांगड़ ने बताया कि सरकार द्वारा फसल अवशेष जलाने की समस्या को गंभीरता से लेते हुए व्यक्तिगत श्रेणी में फसल अवशेष प्रबंधन कृषि यंत्रों के सभी आवेदनों को स्वीकार कर लिया गया है।

चयनित कस्टम हायरिंग केंद्र जिन्होंने पिछले 2 वर्षों के दौरान उन कृषि यंत्रों पर लाभ न लिया हो व जिन्हें वे खरीदना चाहते हैं तथा जिनके पास 35 एचपी या उससे अधिक का ट्रैक्टर वैध आरसी सहित जिला फतेहाबाद में रजिस्टर, जिला में स्वयं/माता/पिता/पुत्र/पुत्री/पति/पत्नी के नाम जिला फतेहाबाद में कृषि भूमि नाम हो, वे आवेदक किसान बिना परमिट लिए विभाग के पोर्टल कृषि यंत्र का बिल, ई-वे बिल, कृषि यंत्र की किसान सहित फोटो व स्वयं घोषणा पत्र 19 अक्टूबर तक अपलोड कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं...