एक्सप्रेस-वे के विरोध में टंकी पर किसान:डबवाली में अमृतसर-जामनगर हाइवे के लिए जमीन अधिग्रहण का विरोध, पड़ाव शुरू

फतेहाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डबवाली गांव में पानी की टंकी के नीचे चल रहा किसानों का पड़ाव। - Dainik Bhaskar
डबवाली गांव में पानी की टंकी के नीचे चल रहा किसानों का पड़ाव।

हरियाणा के सिरसा जिले के डबवाली गांव में तीन किसान गुरुवार को पानी की ऊंची टंकी पर चढ़ गए। वे निर्माणाधीन अमृतसर-जामनगर सिक्स लेन ग्रीनफिल्ड एक्सप्रेस-वे के लिए जमीन के अधिग्रहण का विरोध कर रहे हैं। किसानों ने यहां पड़ाव भी शुरू कर दिया है। पुलिस मौके पर पहुंची हुई है।

अमृतसर-जामनगर सिक्स लेन ग्रीनफिल्ड एक्सप्रेसवे के निर्माण के लिए डबवाली, चौटाला, अबूशहर, सकताखेड़ा आदि कई गांवों की जमीन अधिग्रहण की गई है। क्षेत्र के किसान इसका विरोध कर रहे हैं। दो दिन पहले प्रशासन ने भारी पुलिसबल के साथ किसानों की जमीन पर कब्जा लिया। किसान प्रशासन के सामने भी आए, लेकिन उनकी नहीं चली। किसान पिछले एक साल से आंदोलन कर रहे हैं। प्रशासन को उनकी मांगों को लेकर ज्ञापन दे चुके हैं। उनमें रोष इस बात का है कि प्रशासन ने एक बार भी उनको बुला कर उनकी समस्या को नहीं जाना।

डबवाली में पानी की टंकी पर चढ़े किसान।
डबवाली में पानी की टंकी पर चढ़े किसान।

प्रशासन नहीं कर रहा बात
चौटाला गांव निवासी का. राजेश ने वीरवार सुबह आसपास के गांवों से किसानों को एकत्रित किया और गांव डबवाली की पांनी की ऊंची टंकी के पास आ गया। इसके बाद का. राजेश दो अन्य किसानों सतनाम सिंह और सुरजीत को साथ लेकर पानी की टंकी पर चढ़ गया। इसका पता आसपास के किसानों को चला तो वो भी वहां पहुंच गए। भकियू चढ़नी गुट के किसान भी टंकी प्रांगण में जमा हो गए और पड़ाव शुरू कर दिया। किसान अब वहां से मांगे पूरी होने के बाद ही खड़े होगे।

किसानों में रोष की ये है वजह

किसानों का कहना है कि जो जमीन अमृतसर-जामनगर सिक्स लेन ग्रीनफिल्ड एक्सप्रेसवे के लिए अधिगृहित की गई है। उसका अवार्ड दिए बिना प्रशासन ने उस पर कब्जा ले लिया। किसानों की बीजी गई फसल को उजाड़ दिया गया। नहरी पानी के खाल भी खत्म कर दिए गए, अब फसलों में पानी नहीं जा पाएगा। जिन किसानों की भूमि अधिग्रहण से मुक्त है, कब्जा लेने के दौरान उनकी फसलों में भी नुकसान पहुंचा है।

थाने में दी थी शिकायत

किसानों ने तीन दिन पहले फसलें उजाड़ने पर प्रशासन और कंपनी के कर्मियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की शिकायत भी पुलिस को दी थी, जिस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। किसानों ने फसलें उजाड़ने पर डीसी समेत कई प्रशासनिक अधिकारियों पर मामला दर्ज करने की मांग की है।

खबरें और भी हैं...