पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

21 जिलों के 360 गांवों में किया जागरूक:जल बचाने की अलख जगाने को 3200 किमी साइकिल यात्रा कर फतेहाबाद पहुंचे सुभाष चंद्र

फतेहाबाद15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फतेहाबाद। नगराधीश अंकिता वर्मा से मुलाकात करते सुभाष चंद्र। - Dainik Bhaskar
फतेहाबाद। नगराधीश अंकिता वर्मा से मुलाकात करते सुभाष चंद्र।
  • हिसार के गांव कालीरावण निवासी पूर्व मंडी सुपरवाइजर गांवाें की चौपालों में जाकर दे रहे जल बचाने का संदेश

पानी की एक-एक बूंद अनमोल है, इस बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए हिसार जिले के गांव कालीरावण निवासी व पूर्व मंडी सुपरवाइजर सुभाष गांव-गांव जाकर लोगों को जल बचाने का संदेश दे रहे हैं। खास बात यह है कि जल बचाने की अलख जगाने के लिए सुभाष चंद्र साइकिल यात्रा पर निकले हुए हैं तथा अब तक हरियाणा के 21 जिलों के 360 गांवों में 3200 किलोमीटर यात्रा कर चुके हैं।

बुधवार को सुभाष चंद्र की साइकिल यात्रा फतेहाबाद पहुंची जहां सीटीएम अंकिता वर्मा ने लघु सचिवालय में उनका स्वागत किया, इसके अलावा भी जिले की कई सामाजिक संस्थाओं ने सुभाष चंद्र का स्वागत किया। यहां बता दें कि सुभाष चंद्र ने 27 जनवरी को यह साइकिल यात्रा सिरसा शहर से शुरू की थी, जो अभी तक जारी है । सुभाष चंद्र बताते हैं कि हरियाणा प्रदेश के सभी जिले कवर करने के बाद वह राजस्थान प्रदेश में जल बचाने को लेकर लोगों को जागरूक करेंगे।

रिटायरमेंट से 2 महीने पहले आया यात्रा का आइडिया

सुभाष चंद्र बताते हैं कि मार्केटिंग बोर्ड में उन्होंने बतौर मंडी सुपरवाइजर फरीदाबाद व गुरुग्राम में नौकरी की थी। जल को बहुमूल्य मानते हुए उन्होंने रिटायरमेंट से 2 महीने पहले मई 2020 में यह बात सोच ली थी की नौकरी के बाद वह लोगों को जल बचाने के लिए जागरूक करेंगे। इसके लिए साइकिल यात्रा निकालेगा।

हर जिले के 25 से 30 गांवों में लोगों को बताते हैं जल का महत्व, करते हैं व्यर्थ न बहाने की अपील

सुभाष चंद्र ने बताया कि वह प्रत्येक जिले के 25 से 30 गांवों व मुख्य शहर में साइकिल यात्रा निकाल रहे हैं। इस दौरान वह गांवों में चौपालों में जाकर जहां गांव के लोग बैठे रहते हैं उन्हें जल बचाने बारे संदेश देते हैं, इसके अलावा विभिन्न मौहल्लों में जाकर महिलाओं को भी जल बचाने के लिए प्रेरित करते हैं तथा उन्हें सरकार के जल जीवन मिशन के बारे में बताते हैं। सुभाष चंद्र बताते हैं कि वह लोगों को सरकार द्वारा गांवों में सरपंच की अध्यक्षता में बनाई गई जल एवं सीवरेज कमेटी के बारे में भी बताते हैं तथा पानी को व्यर्थ न बहाने की अपील करते हैं।

सुभाष चंद्र भावी पीढिय़ों के लिए जल बचाने का कार्य कर रहे हैं, जो सराहनीय है। जल की एक-एक बूंद कीमती है तथा इसके बचाना हर व्यक्ति का फर्ज है, ऐसे में सरकार के जल जीवन मिशन को लोगों तक पहुंचाने व उन्हें जागरूक करने में भी सुभाष चंद्र का योगदान बहुत महत्वपूर्ण है।'' -आत्माराम कसाना, डीआईपीआरओ।

खबरें और भी हैं...