पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सीबीएसई की योजना:शिक्षकों को दी जाएगी हैकर्स से बचने की ट्रेनिंग

भट्टूकलां20 दिन पहलेलेखक: सुनील कूकणा
  • कॉपी लिंक
  • प्रत्येक विद्यालय से पांच शिक्षकों को दिया जाएगा प्रशिक्षण

सीबीएसई अब साइबर सिक्योरिटी कोर्स शुरू कर शिक्षकों को हैकर्स से बचने के तरीके सिखाएगा। इसके लिए बाकायदा सीबीएसई से मान्यता प्राप्त विद्यालयों में कार्यरत 5-5 शिक्षकों को यह ट्रेनिंग दी जाएगी। ट्रेनिंग प्राप्त अध्यापक विद्यार्थियों को भी जागरूक करेंगे।

आज के समय में इंटरनेट मीडिया पर हैकर्स की गतिविधियां भी बढ़ गई है। इसी के चलते साइबर सुरक्षा को लेकर सीबीएसई ने यह एक नई पहल की है। जिसके तहत शिक्षकों को साइबर क्राइम से होने वाले नुकसान से बचाने के लिए साइबर सुरक्षा पर एक ऑनलाइन प्रशिक्षण पाठ्यक्रम शुरू कर किया है।

वेबिनार से देंगे जानकारी, अध्यापक विद्यार्थियों को भी करेंगे जागरूक

पाठ्यक्रम में एक वेबिनार, पाठ्यक्रम सामग्री व ऑनलाइन कक्षा का उपयोग कर मूल्यांकन किया जाएगा। इस पाठ्यक्रम को बेहतर ढंग से समझने के लिए बोर्ड की ओर से 10 भाषाओं में वेबिनार का आयोजन किया जाएगा। जिसमें विशेषज्ञ शिक्षकों से पाठ्यक्रम का विवरण और इसकी बारीकियां सांझा करेंगे।

यह कोर्स पूरी तरह से निशुल्क होगा। ट्रेनिंग प्रोग्राम के अंतर्गत ऑनलाइन कक्षाओं का प्रयोग कर शिक्षकों का मूल्यांकन किया जाएगा। साइबर सिक्योरिटी पाठ्यक्रम में सीबीएसई के विशेषज्ञ अध्यापकों को विस्तार से इसकी जानकारी देंगे।

डाटा चोरी से बचाव के लिए देंगे टिप्स प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र भी मिलेगा

सीबीएसई का मानना है कि 21वीं सदी में ज्यादातर लोग डिजिटल गैजेट्स का प्रयोग कर रहे है। ऐसे में हैकर्स आम दिनों की अपेक्षा संक्रमण काल में ज्यादा सक्रिय है। इंटरनेट मीडिया का प्रयोग करने के दौरान किस तरह हमें हैकर्स से सावधान रहना होगा।

ट्रेनिंग के दौरान अध्यापकों को साइबर ठगी से बचने के उपाय बताते हुए ऑनलाइन ठगी करने वाले, एटीएम का पिन पता कर अवैध निकासी और डाटा चोरी से बचाव के लिए वेबिनार के जरिए महत्वपूर्ण जानकारी देंगे। मूल्यांकन के सफल समापन पर प्रतिभागियों को ई- प्रमाण पत्र भी प्रदान किया जाएगा।

सीबीएसई से मान्यता प्राप्त विद्यालयों के प्रत्येक विद्यालय से 5 शिक्षकों को 72 घंटे का प्रशिक्षण दिया जाएगा। साइबर सिक्योरिटी का कोर्स करवाना बहुत अच्छा कदम है।'' -सुनीता मदान, सीबीएसई कोऑर्डिनेटर एवं प्रिंसिपल डीएवी स्कूल फतेहाबाद।

खबरें और भी हैं...