प्लेटलेट्स मिलने में लोगों को हो रही परेशानी:डेंगू के बढ़ते केस को लेकर प्लेटलेट्स की डिमांड बढ़ी, नागरिक अस्पताल में नहीं आया कोई लेने

फतेहाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फतेहाबाद। डेंगू बचाव को फॉगिंग करते कर्मचारी। - Dainik Bhaskar
फतेहाबाद। डेंगू बचाव को फॉगिंग करते कर्मचारी।
  • शनिवार को 15 और मिले डेंगू के मरीज, प्लेटलेट्स के लिए मरीज के परिजनों को अपने स्तर पर तलाशने पड़ते हैं डोनर

शनिवार को डेंगू के 15 नए मामले सामने आए हैं। जिले में डेंगू मरीजों का मिलना जारी है। इसके चलते प्लेटलेट्स की डिमांड भी बढ़ती जा रही है। इसके लिए डेंगू मरीजों के परिजन अपने स्तर पर अपने जानकारों काे ला रहे हैं। वहीं ब्लड बैंक के कर्मी प्लेटलेट्स के लिए ब्लड डोनर को फोन कर बुला रहे हैं। प्लेटलेट्स मिलने में लोगों को कई प्रकार की परेशानी उठानी पड़ रही है। इससे मरीजों को दूसरे जिलों में भी फोन कर प्लेटलेट्स के बारे में पता करना पड़ रहा है। हालांकि अभी तक डेंगू से किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई है। शनिवार को मिले डेंगू मरीजों में से अधिकांश फतेहाबाद शहर के हैं। डेंगू के मरीज बढ़ने के साथ प्लेटलेट्स की डिमांड भी बढ़ गई है। मरीज के परिजन प्राइवेट ब्लड बैंक में प्लेटलेट्स लेने के लिए पहुंच रहे है। यहां प्राइवेट ब्लड बैंक में प्लेटलेट्स नहीं मिल रही हैं। इस पर ब्लड बैंक कर्मी उन लोगों को फोन कर ब्लड डोनेट करने के लिए बुला रहे हैं। लेकिन कई समस्याएं भी आ रही हैं।

किसी डोनर ने कोरोना वैक्सीन लगवाई है ताे किसी को ब्लड डोनेट किए कम समय हुआ है। डेंगू मरीज के परिजन प्लेटलेट्स को लेकर आस पड़ोस, दोस्तों को ब्लड डोनेट के लिए बुला रहे हैं। सोशल मीडिया पर मैसेज डाल रहे हैं। अगर इसके बाद भी प्लेटलेट्स नहीं मिलती है तो दूसरे जिलों में जाकर प्लेटलेट्स लाई जा रही है।

प्लेटलेट्स की होती है 4 से 5 दिन की वैधता

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार अगर कोई प्लेटलेट्स देना चाहता है तो उसका ब्लड निकाला जाता है। ब्लड निकालने के बाद उससे प्लेटलेट्स अलग की जाती है। उस ब्लड की वैधता 4 से 5 दिन होती है। इसके बाद वह खराब हो जाता है।

जानिए... जिले में क्या है डेंगू की स्थिति

  • जिले में अब तक मिले मरीज 789
  • शुक्रवार को मिल नए केस 15
  • नोटिस जारी कि जिया गया 20
  • अस्पताल में भर्ती मरीज 127
  • स्वास्थ्य विभाग ने लिए अब तक सैंपल 2787

ब्लड बैंक में हर रोज 15 से 20 लोग आ रहे

एटीएस ब्लड बैंक के टेक्निकल सुपरवाइजर गुरप्रीत ने बताया कि हर रोज 15 से 20 लोग डेंगू मरीज के लिए प्लेटलेट्स लेने आते है। ब्लड बैंक में स्टॉक नहीं होता तो डोनर को फोन किया जाता है। ब्लड की 1 थैली 400 रुपये लिए जाते है।

प्लेटलेट्स की कमी नहीं : सीएमओ

^जिले में प्लेटलेट्स की कोई कमी नहीं है। यदि किसी को प्लेटलेट्स की जरूरत है तो वह विभाग से डिमांड कर सकता है। उन्हें मुहैया कराए जाएंगे। डेंगू के मरीज भी पहले से कम मिल रहे हैं। लगातार चैकिंग अभियान चलाया जा रहा है। हमारे पास अभी तक एक भी डिमांड नहीं आई है।'' -डा. वीरेश भूषण, सिविल सर्जन फतेहाबाद।

खबरें और भी हैं...