पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लापरवाही:629 में से 236 स्कूलों के स्टाफ ने ही लगवाया टीका, एप पर नहीं दे रहे डाटा, सीनियर सेकेंडरी में आ रहे 39% विद्यार्थी

फतेहाबाद2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फतेहाबाद। गांव नाढोड़ी का राजकीय विद्यालय। - Dainik Bhaskar
फतेहाबाद। गांव नाढोड़ी का राजकीय विद्यालय।
  • डीईओ बोले- एप पर डाटा अपडेट नहीं करने वाले स्कूल मुखियाओं के खिलाफ करेंगे सख्त कार्रवाई

कोरोना महामारी की दूसरी लहर धीमी होने के बाद सरकार ने बीती 16 जुलाई से 9वीं से 12वीं कक्षा के बच्चों के लिए स्कूल खोले थे तथा कल से छठी से 8वीं कक्षा के बच्चों के लिए भी स्कूल खुल रहे हैं। लेकिन जिले के 629 राजकीय विद्यालयों में से अब तक मात्र 236 स्कूलों के स्टाफ ने विभाग को टीकाकरण की जानकारी दी है।

चिंता की बात यह है कि अवसर एप पर जानकारी देने वाले उक्त 236 स्कूलों के जितने स्टाफ ने टीका लगवाया है वह कुल स्टाफ का मात्र 20 फीसदी ही है। डाटा अपडेट करने वाले स्कूलों में अब तक 730 टीचिंग व नॉन टीचिंग स्टाफ ने अब तक पहली डोज लगवाई है, इनमें से 215 स्टाफ सदस्य ऐसे हैं जो कोरोना से बचाव का दूसरा टीका भी लगवा चुके हैं।

4 महीने बाद कल खुलेंगे जिले के 86 राजकीय मिडिल स्कूल

जिले के कुल 629 राजकीय स्कूलों में से 86 स्कूल ऐसे हैं जो मिडल तक के ही हैं। ऐसे में इन स्कूलों में कल 4 महीने बाद रौनक लौटेगी। आज विभाग द्वारा इन सभी स्कूलों में कमरों व डेस्क की सफाई करवाई जाएगी तथा पूरे भवन को सेनिटाइज किया जाएगा ताकि संक्रमण का खतरा ना रहे। इसके अलावा पानी की टंकियों की भी विशेष तौर पर सफाई करवाने के आदेश दिए गए हैं।

स्कूलों में बढ़ रही बच्चों की संख्या, कई प्राइवेट स्कूल अभी भी बंद

बच्चों के लिए स्कूल खुलने के बाद रोजाना बच्चों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। अब तक जिले में सीनियर सेकेंडरी में 39 फीसदी तक विद्यार्थी आना शुरू हो गए हैं, यह संख्या पहले दिन मात्र 20 फीसदी थी। इसके अलावा कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के चलते सीबीएसई व हरियाणा बोर्ड से जुड़े जिले के कई प्राइवेट स्कूल संचालकों ने अब तक स्कूल खोले ही नहीं है।

विद्यार्थियों व शिक्षकों को इन नियमों का पालन करना जरूरी

1. जो विद्यार्थी ऑनलाइन स्टडी करना चाहते हैं उनके लिए ऑनलाइन पढ़ाई जारी रहेगी। 2. विद्यार्थी को स्कूल आते समय अपने माता-पिता की लिखित अनुमति लेकर आनी होगी। 3. स्कूल में विद्यार्थी की उपस्थिति को लेकर कोई बाध्यता नहीं होगी तथा विद्यार्थी पर कोई दबाव नहीं बनाया जाएगा। 4. विद्यार्थियों के लिए स्कूल का समय 9 से 12 बजे तक तथा शिक्षकों के लिए साढ़े 8 से साढ़े 12 बजे तक का समय रहेगा। 5. बच्चों का तापमान व हाजरी रोजाना अवसर एप पर अपलोड करनी होगी। 6. एक डेस्क पर एक ही विद्यार्थी को बैठाया जाएगा।

जो स्कूल मुखिया अवसर एप पर टीकाकरण व बच्चों का डाटा व तापमान अपडेट नहीं कर रहे हैं उन्हें नोटिस जारी किए जाएंगे तथा उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। सभी टीचिंग व नॉन टीचिंग स्टाफ को जल्द से जल्द वैक्सीन लगवाने के आदेश दिए गए हैं।'' -दयानंद सिहाग, डीईओ।

खबरें और भी हैं...