केस दर्ज:आंगनबाड़ी वर्कर लगवाने के नाम पर साढ़े 8 लाख रुपये ठगे, महिला समेत दो पर केस दर्ज

चौपटा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • उसकी भाभी सुमन आंगनबाड़ी विभाग में ही काम करती है, जल्द ही नौकरी ज्वाइन करवा देंगे

आंगनबाड़ी विभाग में वर्कर लगवाने का झांसा देकर एक महिला से साढ़े 8 लाख रुपये ठगने का मामला सामने आया है। चौपटा पुलिस ने एक महिला सहित दो लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। गांव अलीमोहम्मद निवासी सावित्री पत्नी प्रह्लाद सिंह ने अपनी शिकायत में बताया कि उसका पति बीमार रहता है और उसके पास 3 किले जमीन है। उसके दो बच्चे है। उसके खेत के साथ लगते खेत को सतपाल नामक व्यक्ति ने ठेके पर लिया हुआ है। सतपाल की वजह से उसके भाई भरत सिंह पुत्र रामपाल निवासी चाडीवाल का उनके घर आना-जाना था। भरत सिंह स्वयं को सेना से रिटायर्ड कर्नल बताता था। भरत सिंह उसके पति को दवाई दिलाने ले जाता और अन्य कार्यों में सहयोग करता था।

जिसके कारण उसका भरत सिंह पर भरोसा बन गया। उसने खेती कार्य से लगभग 10 लाख रुपये घर बनाने के लिए जोड़ रखे थे। इसके अलावा एचडीएफसी बैंक से गहने गिरवी रखकर लगभग पौने दो लाख रुपये का लोन भी लिया हुआ था। उसने बताया कि भरत सिंह ने उसे आंगनबाड़ी विभाग में नौकरी लगवाने का झांसा दिया। कहा कि इसके लिए साढ़े 8 लाख रुपये देने होंगे। उस पर विश्वास करके उसने यह राशि दे दी। आरोपी ने 20 सितंबर को उसे एक ज्वाइनिंग लेटर थमा दिया। जब वह आंगनबाड़ी विभाग में पहुंची तो बताया गया कि यह फर्जी ज्वाइनिंग लेटर है। जब उसने पैसे का तकाजा किया तो उसने फिर से भरोसा दिलाया कि उसकी महकमे में बात हो चुकी है।

उसकी भाभी सुमन आंगनबाड़ी विभाग में ही काम करती है, जल्द ही नौकरी ज्वाइन करवा देंगे। उसने गुमराह करने के लिए उसे मेल करके बताया कि उसके बैंक खाते में 35500 रुपये तनख्वाह के जमा हो गए है। जबकि उसके खाते में कोई राशि जमा नहीं हुई थी। धोखाधड़ी की यह शिकायत पुलिस उपाधीक्षक धर्मवीर सिंह के पास पहुंची। उन्होंने मामले की पड़ताल की, जिसके बाद चौपटा पुलिस ने भरत सिंह व सुमन के खिलाफ धोखाधड़ी व गबन का मामला दर्ज किया है। मामले की जांच का जिम्मा सब इंस्पेक्टर मनीष कुमार को सौंपा गया है।

खबरें और भी हैं...