CET एडमिट कार्ड पर गलत सेंटर से छूटा एग्जाम:हिसार में नहीं मिला स्कूल तो हांसी पहुंचे; 5 मिनट की देरी से एंट्री नहीं

हांसी22 दिन पहले

हरियाणा में CET एग्जाम के दूसरे दिन कुछ परीक्षार्थियों ने हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (HSSC) से हुई गलती का खामियाजा भुगतना पड़ा। करीब आधा दर्जन परीक्षार्थियों के एडमिट कार्ड पर हिसार में सेंटर दिखाया गया। जिस स्कूल में बच्चों को पहुंचना था, वो हिसार में था ही नहीं। पता चला कि ये हांसी में है, वहां पहुंच कर सेंटर तलाशा तो 10 बज गए। इससे सेंटर में एंट्री ही नहीं दी गई। बच्चों में HSSC की इस गलती से रोष है कि वे परीक्षा में बैठ नहीं पाए।

हांसी में CET की परीक्षा से वंचित रहे स्टूडेंट्स सिरसा और नारनौल से आए राजेश, गौतम, मलकीत, अंकित, शर्मिला ने बताया कि HSSC की गलती से वे पूरी भागदौउ़ करने के बावजूद रविवार काे एग्जाम नहीं दे पाए। एडमिट कार्ड में एग्जाम सेंटर गलत होने के वजह से वे समय पर नहीं पहुंच पाए। रोल नंबर स्लिप पर सेंटर एड्रेस हिसार का दिया हुआ हैं और सेंटर हांसी शहर में था।

परीक्षार्थी गौतम के एडमिट कार्ड पर परीक्षा केंद्र का पता हिसार दिया गया, जबकि ये हांसी में था। परीक्षा से वंचित होना पड़ा।
परीक्षार्थी गौतम के एडमिट कार्ड पर परीक्षा केंद्र का पता हिसार दिया गया, जबकि ये हांसी में था। परीक्षा से वंचित होना पड़ा।

परीक्षार्थियों ने बताया कि उनके एडमिट कार्ड में बाबा बंदा बहादुर पब्लिक स्कूल नजदीक सदर थाना हिसार का एग्जाम सेंटर दिया गया था। वे सुबह हिसार समय पर पहुंच गए। काफी देर तक परीक्षा केंद्र को तलाशते रहे, लेकिन नहीं मिला। पूछताछ की तो पता चला कि ये स्कूल तो हांसी में है। वो गाड़ी करके किसी तरह से हांसी पहुंचे। वहां परीक्षा केंद्र की तलाश की और पहुंचते पहुंचते 10 बज गए। इसके बाद उनको परीक्षा केंद्र में एंट्री ही नहीं दी गई। उन्होंने वहां मौजूद स्टाफ को अपनी परेशानी बताई, लेकिन कोई सुनने को राजी नहीं था।

शर्मिला भी एडमिट कार्ड पर परीक्षा केंद्र का पता गलत होने के कारण परीक्षा देने से वंचित रह गई।
शर्मिला भी एडमिट कार्ड पर परीक्षा केंद्र का पता गलत होने के कारण परीक्षा देने से वंचित रह गई।

उन्होंने बताया कि 10:05 बजे वो बाबा बंदा सिंह बहादुर स्कूल में हांसी सेंटर पहुंचे। तब तक छात्रों की एंट्री बंद हो चुकी थी। 5 मिनट लेट होने की वज़ह से छात्रों को एग्जाम में एंट्री नहीं दी गई। वे सभी छात्र एग्जाम सेंटर के बाहर ही खड़े रहें। दूर दराज के शहरों से आए छात्रों का कहना है कि सरकार की गलती का खामियाजा हमें भुगतना पड़ रहा है। अब 1 साल तक वे कोई भी सरकारी नौकरी का फार्म नहीं भर सकते। सरकार की एक गलती के कारण उनका 1 साल खराब हो चुका है।

खबरें और भी हैं...