शिकायत:भ्रष्टाचार और घोटालों का आरोप लगाने वाले सीमांत की याचिका हाईकोर्ट ने की खारिज

हांसी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एएजी ने कहा- एक महीने में आएगी रोड की सैंपल रिपोर्ट फिर होगा आगामी फैसला

नगर परिषद में भ्रष्टाचार व घोटालों का आरोप लगाते हुए जिस याचिका के साथ पूर्व पार्षद सीमांत चौधरी ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था, उसे एक महीने की डायरेक्शन के साथ कोर्ट ने खारिज कर दिया। हाईकोर्ट में एएजी द्वारा कहा गया कि रोड की सैंपल रिपोर्ट एक महीने में आएगी। पूर्व पार्षद व प्रधानमंत्री आवास योजना के सदस्य सीमांत चौधरी ने घोटालों का आरोप लगाते हुए हाईकोर्ट में रिट दायर की थी।

रिट में उन्होंने काली देवी रोड की जांच रिपोर्ट में श्री राम लैब से सैंपल फेल आने के बाद भी कार्रवाई न होने की बात कही थी। साथ ही स्ट्रीट लाइट, पेवर ब्लॉक में हुए कथित घोटालों का जिक्र किया था। रिट पर 12 अक्टूबर को सुनवाई हुई। कोर्ट में चौधरी के वकील ने कहा कि काली देवी रोड, क्रांति चौक से हाईवे तक रोड के निर्माण में घटिया निर्माण सामग्री का इस्तेमाल हुआ।

इसकी जांच श्री राम लैब से करवाई गई। सैंपल फेल आए। लेकिन अधिकारियों द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई। एएजी ने कहा कि इस मामले में जांच चल रही है। रिपोर्ट आने के बाद आगामी फैसला लिया जाएगा। रिपोर्ट एक महीने के अंदर आ जाएगी। जिस पर कोर्ट ने सुनवाई करते हुए एक महीने के अंदर जांच पूरी होने की डायरेक्शन के साथ रिट को डिस्पोज ऑफ कर दिया। अगर जांच रिपोर्ट से सीमांत चौधरी संतुष्ट नहीं हुए तो वह कोर्ट में फिर से रिट दायर कर सकते हैं।

बता दें कि काली देवी रोड पुरा बनने से पहले ही यहां पर तीन बार सैंपल लिए जा चुके हैं। इसके साथ क्रांतिकारी चौक से हाईवे रोड के सैंपल भी लिए गए हैं। यह रोड सीसी की बनी हुई है। इसमें घटिया निर्माण सामग्री के इस्तेमाल के आरोप लगाए गए हैं। इसमें एक बार सैंपल पास आए हैं। दूसरी बार प्राइवेट लैब में भेजे गए तो वहां सैंपल फेल आए। सैंपल फेल आने पर कोई कार्रवाई नहीं हुई।

अगस्त में यहां पर तीसरी बार सैंपल लिए गए थे। जिसकी रिपोर्ट आनी बाकी है। एक महीना पहले भिवानी रोड व माडल टाउन में पेवर ब्लॉक के सैंपल लिए गए थे। 2.80 करोड रुपये की लागत से ब्लॉक लगे थे। यहां भी घटिया सामग्री के इस्तेमाल के आरोप लगाए गए थे। इसकी जांच रिपोर्ट अभी आई नहीं है। इसके अलावा सीमांत चौधरी द्वारा एलईडी स्ट्रीट लाईट में भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए। यह सभी मामले अभी जांच में है। इनकी रिपोर्ट एक महीने में आने की बात कही गई है।

खबरें और भी हैं...