पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दलितों पर टिप्पणी मामले में मुनमुन दत्ता को राहत:सुप्रीम कोर्ट ने 3 राज्यों में दर्ज मामलों में कार्रवाई पर फिलहाल लगाई रोक

हांसीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जस्टिस हेमंत गुप्ता व जस्टिस वी राम सुब्रमण्यम की पीठ ने सुनवाई में दर्ज मामलों में कार्रवाई पर फिलहाल रोक लगा दी। - Dainik Bhaskar
जस्टिस हेमंत गुप्ता व जस्टिस वी राम सुब्रमण्यम की पीठ ने सुनवाई में दर्ज मामलों में कार्रवाई पर फिलहाल रोक लगा दी।
  • चार राज्यों में दर्ज है केस, हांसी में कार्रवाई जारी रहेगी

टीवी सीरियल तारक मेहता का उल्टा चश्मा की बबीता जी यानी अभिनेत्री मुनमुन दत्ता को सुप्रीम कोर्ट से कुछ राहत मिली। दत्ता ने अपने खिलाफ चार राज्यों में दर्ज मुकदमों की एक ही जगह जांच कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी, जिस पर जस्टिस हेमंत गुप्ता व जस्टिस वी राम सुब्रमण्यम की पीठ ने सुनवाई की और दर्ज मामलों में कार्रवाई पर फिलहाल रोक लगा दी। हालांकि हांसी में दर्ज मामले में कार्रवाई जारी रहेगी।

दर्ज मुकदमों को एक जगह स्थानांतरित करने पर सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस जारी किया है। मुनमुन दत्ता ने एक वीडियो जारी कर एक शब्द का इस्तेमाल किया था, जिसके बाद इस पर आरोप लगा था कि उन्होंने अनुसूचित जाति व जनजाति समाज को नीचा दिखाने के मकसद से उसका उच्चारण किया।

वीडियो के वायरल होने के बाद हांसी के दलित अधिकार कार्यकर्ता रजत कलसन ने हांसी थाना शहर में मुनमुन दत्ता के खिलाफ अनुसूचित जाति व जनजाति अत्याचार अधिनियम की धारा 3(1)(u) के तहत एफआइआर दर्ज कराई थी। कुल चार राज्यों में मुनमुन दत्ता के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई हैं। मुनमुन ने सभी एफआईआर की जांच एक जगह कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है।

खबरें और भी हैं...