प्रभात फेरी निकाल गायी गुरु की महिमा:सिख धर्म व गुरु गोबिंद सिंह जी के संदेश का प्रचार-प्रसार किया

कालांवाली20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

गुरु गोबिंद सिंह जी के प्रकाशोत्सव को लेकर गुरूद्वारा सिंह सभा की ओर से शहर में लगातार निकाली गई प्रभात फेरियों का श्रद्वापूर्वक समापन किया गया। समापन के अंतिम दिन गुरुद्वारा सिंह सभा की ओर से शहर में प्रभात फेरी निकालकर सिख धर्म व गुरू गोबिंद सिंह जी के संदेश का प्रचार किया। प्रभात फेरी गुरुद्वारा सिंह सभा से शुरु होकर शहर के रेलवे फाटक बाजार, वाटर वक्र्स रोड, सब्जी मंडी, खुहं वाला बाजार सहित विभिन्न जगहों से होकर गुरू का गुणगान करती हुई तख्तमल रोड पर स्थित गुरूद्वारा साहिब में पहुंची। इस दौरान गुरुद्वारा के मुख्य सेवादार जगतार सिंह ने सरबत के भले की अरदास की। सेवादार गुरप्रीत सिंह जीपी ने बताया कि दशम पातशाह गुरु गोबिंद सिंह जी के प्रकाशोत्सव को लेकर गुरुद्वारा सिंह सभा की ओर से शहर में गत 25 दिसंबर से लेकर रोजाना सुबह प्रभात फेरी लगाई गई। प्रभात फेरी दौरान गुरु की प्यारी साध संगत ने दिव्य वाणी से गुरु गोबिंद सिंह जी के गुणगान कर शहर की गली-गली में ईश्वर सुमिरन का संदेश दिया। प्रभात फेरी के समापन के बाद अब साध संगत की ओर से आगामी 9 दिसंबर को गुरुद्वारा सिंह सभा में कीर्तन दरबार सजाया जाएगा और श्री अखंड पाठ के भोग उपरांत गुरु का अटूट लंगर बरताया जाएगा। इसके अलावा प्रभात फेरी के दौरान गुरुद्वारा के मुख्य सेवादार जगतार सिंह ने साध संगत को गुरु गोबिंद सिंह महाराज का संदेश देते हुए ने बताया कि गुरु गोबिंद सिंह जी केवल आदर्शवादी नहीं थे, बल्कि वे एक आध्यात्मिक गुरु थे जिन्होंने मानवता को शांति, प्रेम, एकता, समानता एवं समृद्धि का रास्ता दिखाया और सती प्रथा, बाल विवाह, बहु विवाह, लड़की पैदा होते ही मार डालने जैसी बुराइयों के खिलाफ आवाज बुलंद की। यहां मास्टर विजयपाल, श्लोक सिंह सोनी, कुलदीप सिंह, भीमा सोनी, अवतार सिंह, बिंदर सिंह खालसा, रणजीत सोनी, कश्मीर सिंह, दर्शन कौर खालसा श्रद्वालु मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...