पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पार्क की हालत खराब:पार्क में कई जगह पर चारदीवारी और झूले टूटे, दो फीट तक उगी घास तो बैठने के लिए बेंच तक नहीं

कालांवाली9 दिन पहलेलेखक: रोहित जैन
  • कॉपी लिंक
दादू रोड पर स्थित पार्क में सफाई अभियान चलाकर संवारते युवा  - Dainik Bhaskar
दादू रोड पर स्थित पार्क में सफाई अभियान चलाकर संवारते युवा 
  • अब 3 दोस्तों ने अपने स्तर पर सुधार का जिम्मा उठाया

शहर के वार्ड नंबर 10 के दादू रोड पर स्थित पार्क में आमजन को न तो पार्क की सुविधा मिल रही है और न ही प्रदेश सीएम की घोषणा व डिप्टी सीएम की ओर से आधारशिला रखने के बावजूद कम्यूनिटी हाल की सुविधा मिली है। हालत यह है कि पार्क की चारदीवारी, झूले, फर्श इत्यादि टूटे हुए है। पार्क में लंबी-लंबी घास-फूंस उगी हुई है।

पार्क नशेडिय़ों का अड्डा बनकर रह गया है। पार्क में सालों बीत जाने के बावजूद भी नगरपालिका प्रशासन की ओर से कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा। जिसको लेकर शहर के तीन युवाओं संदीप सोनी, गुरमीत सिंह गोरा और दीपक कुमार ने पार्क की दुर्दशा व सफाई व्यवस्था को लेकर रविवार को खुद ही पार्क की सफाई की जिम्मा उठाया और सुबह 7 बजे ही कस्सी आदि लेकर पार्क में कई घंटों तक कांग्रेसी घास काटकर साफ-सफाई की।

युवाओं संदीप सोनी, गुरमीत सिंह गोरा और दीपक कुमार ने बताया कि करीब 8 वर्ष पूर्व नगरपालिका की ओर से लगभग एक एकड़ जमीन पर लगभग 15 लाख की लागत से चारदीवारी, मिट्टी डालने, मुख्य गेट व दीवार पर लोहे की ग्रिल आदि लगवाकर पार्क का निर्माण किया गया था। इसके तत्पश्चात पार्क तैयार होने के बाद उसमें डी-प्लान योजना के तहत आठ लाख रुपये की लागत से दो दर्जन के करीब झूले, आधा दर्जन प्लास्टिक व लोहे के कूड़ेदान और बैठने के लिए बैंच आदि लगाए गए थे।

पार्क के निर्माण होने के कुछ माह तक पार्क में दिनभर बच्चों सहित सैकडों लोगों का जमावड़ा लगा रहने लगा। पार्क में दूसरे किनारे पर स्थित मॉडल टाउन तक के बच्चे भी यहां मस्ती करने पहुंचते थे। लेकिन नपा की ओर से पार्क पर लाखों रुपये खर्च करने के बावजूद देखरेख के लिए कोई कर्मचारी नियुक्त नही करने के चलते पार्क एक माह बाद ही खस्ता होने लगी।

आमजन की ओर से नगरपालिका प्रशासन को कई बार अवगत करवाने के बावजूद भी नगरपालिका ने पार्क की तरफ बिल्कुल ध्यान नहीं दिया। ज असामाजिक तत्वों ने पार्क में लगे झूले, दीवारें, ग्रिले, कूड़ेदान, पौधे आदि तोड़ दिए। पार्क निर्माण से लेकर अब तक नगरपालिका की ओर अब तक ना ही कोई पैसा खर्च किया गया है। जिसके चलते बच्चे अब पार्क में खेलना तो दूर की बात, पार्क में आना ही पसंद नहीं करते।

हालांकि वार्डवासियों, डेरा प्रेमियों, विभिन्न संस्थाओं के युवाओं ने पौधा रोपण करने, ग्रिलें लगवाकर, सफाई अभियान चलाकर अपना भरपूर सहयोग कर पार्क की दशा संवारने का प्रयास किया।

लेकिन असफल रहे। उन्होंने बताया कि अब हम तीनों युवाओं ने मिलकर पार्क की दशा सुधारने का निर्णय लिया है। इसी के चलते आज कई घंटाें तक कांग्रेसी घास को उखाड़ने का कार्य किया और पार्क की सफाई की है।

सीएम घोषणा व डिप्टी सीएम की ओर से आधारशिला रखने के बाद भी नहीं सुविधा

बता दें कि प्रदेश सीएम मनोहर लाल की ओर से शहर में कम्यूनिटी सैंटर बनाने की घोषणा की गई थी। जिसके बाद मंजूरी मिलने के बाद नगरपालिका प्रशासन की ओर से शहर के वार्ड नंबर 10 में दादू रोड पर स्थित पार्क में कम्यूनिटी सैंटर बनाने को लेकर फरवरी 2020 में करीब 1 करोड़ 26 लाख रुपये की राशि के टैंडर लगाकर एक साल में कार्य पूरे करने के डबवाली की फर्म परमवीर कंस्ट्रक्शन को वर्क आर्डर दिए गए थे। लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते देशभर में लगाए गए लाॅक डाउन के कारण कार्य शुरू नहीं हो पाया। जिसके बाद गत 24 अगस्त 2020 को गांव बड़ागुढ़ा में आयोजित कार्यक्रम के दौरान प्रदेश के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की ओर कम्यूनिटी सेंटर की आधारशिला भी रखी थी।

इसके बाद नगरपालिका प्रशासन की ओर से काम दोबारा शुरू करवाने फर्म को 6 माह तक की समयावधि बढ़ाते हुए अगस्त 2021 तक कार्य पूरा करने के आदेश दिए गए और निर्माण कार्य शुरू करवाने को लेकर कर्मचारी लगाकर पार्क में साफ-सफाई करवाकर व पार्क की सड़कों से इंटरलाकिंग टाइल्स उखाड़ी गई। लेकिन पार्क की सड़कों से इंटरलाकिंग टाइल्स उखाड़ने के बाद अभी तक नपा में फंड की कमी के चलते कोई निर्माण कार्य शुरू नहीं हो पाया है। जिसके चलते पार्क की स्थिति पहले से भी दयनीय हो गई है।

फंड की कमी के कारण नहीं शुरू हो पा रहा निर्माण कार्य-प्रधान

^सरकार की ओर से फंड न आने के कारण नगरपालिका में फंड की कमी के चलते कम्यूनिटी सेंटर का निर्माण कार्य शुरू नहीं हो पा रहा। ठेकेदार को पहले करवाए गए करोड़ों रुपये की अभी तक पेमेंट नहीं हो पाई है। जैसे ही फंड आता है, तुंरत कम्यूनिटी सैंटर का निर्माण कार्य शुरू करवा दिया जाएगा।
- मनीष जिंदल, कार्यकारी प्रधान, नगरपालिका कालांवाली

खबरें और भी हैं...