पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दर्दनाक हादसा:सुंगरपुर में ट्राले की चपेट में आने से दो महिलाओं की मौत, ट्राला चालक फरार

कैरू7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कैरू. सुंगरपुर के समीप दो महिलाओं को कुचलने के बाद मौके पर खड़ा ट्राला और जमा भीड़। - Dainik Bhaskar
कैरू. सुंगरपुर के समीप दो महिलाओं को कुचलने के बाद मौके पर खड़ा ट्राला और जमा भीड़।
  • खेत से चारा लेकर लौट रही थीं दोनों, अचानक ट्राला सड़क से नीचे उतरने पर हुआ हादसा

सुंगरपुर के समीप ट्राले की चपेट में आने से दो महिलाओं की मौत हो गई। दोनों महिलाएं खेत से पशुओं के लिए चारा लेकर आ रही थी। घटना के बाद से ट्राला ड्राइवर फरार है। घटनास्थल पर मांस के टुकड़े बिखरे हुए थे। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर दोनों शवों व ट्राले को अपने कब्जे में लेकर अज्ञात ट्रक चालक के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज किया है। ट्राला सीमेंट के पाइप लेकर तोशाम की ओर से आ रहा था। इस संबंध में पुलिस को दी शिकायत में महेंद्र का कहना है कि वह गांव से अपने खेत में तोशाम रोड की तरफ जा रहा था।

गांव सुंगरपुर की 55 वर्षीय धन्नी व 25 वर्षीय कमलेश सड़क के किनारे चारा रखकर आराम कर रही थी। तभी तोशाम की तरफ से आ रहे एक ट्राले ने रोड से नीचे की ओर साइड काटते हुए उन्हें अपनी चपेट में ले लिया। दुर्घटना के बाद वह भागकर मौके पर पहुंचा तो तब तक दोनों की मौत हो चुकी थी। इसकी सूचना तुरंत परिवार वालों को दी गई। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और उसने ट्राले को कब्जे में लेकर कार्रवाई की। पुलिस ने अज्ञात ट्रक चालक के खिलाफ धारा 279 304 ए के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। मृतक दोनों महिलाओं का भिवानी के सामान्य अस्पताल में पोस्टमार्टम करवाया गया है। इस बारे में कैरू पुलिस चौकी प्रभारी मनीष वालिया का कहना है कि सुंगरपुर के समीप ट्राले की चपेट में आने से सुंगरपुर की धन्नी व कमलेश की मौत हुई है। दोनों शवों का भिवानी पोस्टमार्टम करवाया गया है। ट्राला कब्जे में लिया गया है लेकिन चालक फरार है। उसके खिलाफ मामला दर्ज कर जांच की जा रही है।

हर गांव से महिलाएं जाती हैं चारा लेने

पशुओं व खेती पर निर्भर रहने वाले ग्रामीणों के यहां महिलाएं अक्सर चारा लेने के लिए अपने खेत में जाती हैं। जिन लोगों के खेत गांव से ज्यादा दूर हैं, वे महिलाएं अक्सर रास्ते में चारा साइड में रहकर थाेड़ा आराम कर लेती हैं। कमलेश व धन्नी के साथ गांव की 10-15 और महिलाएं भी चारा लेकर आ रही थी। उन्हें नहीं पता था कि रास्ते में रुकना इस प्रकार उनके लिए मौत का कारण बन जाएगा। 55 वर्षीया धन्नी के दो बच्चे हैं और 25 वर्षीय कमलेश के 8 व 5 साल के दो लड़के हैं।

खबरें और भी हैं...