पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आंदोलन का असर:बीकानेर से दिल्ली जाने वाली जो ट्रेन दोपहर डेढ़ बजे लोहारू पहुंचनी थी वह साढ़े 4 बजे रतनगढ़ से चली

लोहारू11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लोहारू। दिल्ली बीकानेर व जयपुर दिल्ली ट्रैक पर बैठे किसान व गणमान्य लोग। - Dainik Bhaskar
लोहारू। दिल्ली बीकानेर व जयपुर दिल्ली ट्रैक पर बैठे किसान व गणमान्य लोग।

बीकानेर से दिल्ली जाने वाली एक्सप्रेस रेलगाड़ी को राजस्थान के रतनगढ़ में ही रोक दिया गया। सवारी रेलगाड़ी दोपहर डेढ़ बजे लोहारू पहुंचनी थी, लेकिन नहीं पहुंची। लगभग साढ़े चार बजे रेलगाड़ी को रतनगढ़ से रवाना किया गया है।

रेलवे ट्रैक पर किसानों ने धरना दिया। लोहारू के अलावा बाढड़ा, बहल और तोशाम से सैकड़ों की संख्या में किसान धरने पर पहुंचे। धरने की अध्यक्षता अध्यक्ष मंडल ने की। मंच संचालन एडवोकेट सुनील खरकड़ी, गंगाराम श्योराण ने किया।

रेल लाइन पर बैठे किसानों को स्वामी सदानंद सरस्वती, सिंदोलिया खाप के सीता राम शर्मा, बिजेंद्र बेरला, बलबीर ठाकन, राजसिंह गागड़वास, रणसिंह मान, धर्मपाल बाढड़ा, कविता आर्य, सुमेर सिंह भांडवा, सुमित बारवास, सरपंच दयाचंद, छोटू राम पुनिया, भीमसिंह, राजकुमार हड़ोदि, अशोक आर्य, सतीश यादव पूर्व जिप प्रमुख रेवाड़ी आदि वक्ताओं ने संबोधित किया।

वक्ताओं ने कहा कि किसान आंदोलन का फल सरकार को पंजाब के स्थानीय चुनाव के परिणाम से मिलना शुरू हो गया है। आने वाले सभी चुनावों में भाजपा को खामियाजा भुगतना पड़ेगा। रेल रोको अभियान में बार एसोसिएशन लोहारू के अनेक वकीलों ने मौके पर पहुंच कर किसान आंदोलन को समर्थन दिया। युवा कल्याण संगठन के हलका प्रधान अमित अत्री कुड़ल की तरफ से किसानों को फल वितरित किए गए।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से उत्साह में वृद्धि होगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी विजय हासिल...

    और पढ़ें