पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कृष्ण की बाल लीलाओं का वर्णन किया:सिसाय कालीरावण के चबूतरे पर श्रीमद्भागवत कथा के 5वें दिन आचार्य राघवेंद्र ने भक्तों को दिए प्रवचन

नारनौंद5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

अग्रवाल परिवाद द्वारा सिसाय कालीरावण चबूतरे पर श्रीमद्भागवत कथा के पांचवें दिन कथा वाचक आचार्य राघवेंद्र सरकार ने भगवान श्री कृष्ण की बाल लीलाओं का वर्णन किया। उन्होंने कहा कि कृष्ण के पैदा होने के बाद कंस उन्हें मौत के घाट उतारने के लिए अपनी राज्य की सर्वाधिक बलवान राक्षस पूतना को भेजता है। पूतना वेष बदलकर भगवान श्री कृष्ण को अपने स्तन से जहरीला दूध पिलाने का प्रयास करती है। लेकिन भगवान श्री कृष्ण उसे मौत के घाट उतार देते हैं। उसके बाद कार्तिक माह में ब्रजवासी भगवान इन्द्र को प्रसन्न करने के लिए पूजा का कार्यक्रम करने के की तैयारी करते हैं। भगवान कृष्ण द्वारा उनको भगवान इन्द्र की पूजा करने से मना करते हुए गोवर्धन महाराज की पूजा करने की बात कहते हैं। उन्होंने कहा कि इन्द्र भगवान उन बातों को सुनकर क्रोधित हो जाते हैं। वह अपने क्रोध से भारी वर्षा करते हैं। जिसे देखकर समस्त ब्रजवासी परेशान हो जाते हैं। भारी वर्षा को देख भगवान श्री कृष्ण गोवर्धन पर्वत को अपनी कनिष्ठा अंगुली पर उठाकर पूरे नगरवासियों को पर्वत के नीचे बुला लेते हैं। जिससे हार कर इन्द्र एक सप्ताह के बाद बारिश को बंद कर देते हैं। जिसके बाद ब्रज में भगवान श्री कृष्ण और गोवर्धन महाराज के जयकारे लगाने लगते हैं।

खबरें और भी हैं...