पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सफलता मिली:देशभर के 10 स्टूडेंट्स का इसराे में चयन एचएयू की छात्रा शिवांशी का भी सिलेक्शन

हिसार8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • अब नीदरलैंड की यूनिवर्सिटी ऑफ टवेंटी, आईटीसी से करेगी पढ़ाई

एचएयू के कृषि अभियांत्रिकी एवं प्रौद्योगिकी महाविद्यालय की छात्रा शिवांशी यादव का चयन स्नातकोत्तर डिग्री के लिए इसरो में हुआ है। अब शिवांशी यादव इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ रिमोट सेंसिंग, इसरो देहरादून से जियो इंफोर्मेटिक्स एंड अर्थ ऑब्जरवेशन में मास्टर डिग्री करेगी। यह एक दो वर्षीय कार्यक्रम है जिसके तहत एक वर्ष तक इसरो और इसी डिग्री के दूसरे वर्ष की पढ़ाई नीदरलैंड की यूनिवर्सिटी ऑफ टवेंटी, आईटीसी से करेगी।

खास बात यह है कि इस कोर्स के लिए देशभर से केवल 10 विद्यार्थियों का चयन हुआ है और शिवांशी उनमें से एक है। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर बीआर काम्बोज ने छात्रा के चयन पर बधाई देते हुए उसके उज्ज्वल भविष्य की कामना की है। उन्होंने कहा कि इससे विश्वविद्यालय के अन्य विद्यार्थियों को भी प्रेरणा मिलेगी।

हाेनहार... कड़ी मेहनत का नतीजा है इसरो में चयन

विश्वविद्यालय के स्नातकोत्तर अधिष्ठाता डॉ. अतुल ढींगड़ा ने विद्यार्थी की कड़ी मेहनत की सराहना करते हुए अपनी पढ़ाई पूरी करने की शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि छात्रा का कड़ी मेहनत के बल पर ही इसरो में चयन हुआ है। महाविद्यालय के अधिष्ठाता डॉ. अमरजीत कालड़ा ने कहा कि शिवांशी बहुत ही होनहार छात्रा है जिसने अपनी मेहनत के बल पर इस मुकाम को पाया है। भविष्य में भी वह यूं ही अपने लक्ष्य को हासिल करती रहेगी।

जानिए... मूलरूप से रेवाड़ी के रहने वाले पिता भी विश्वविद्यालय के रह चुके हैं छात्र

मूल रूप से रेवाड़ी जिले के गांव खुशपुरा की रहने वाली शिवांशी की प्रारंभिक पढ़ाई रेवाड़ी से जबकि दसवीं के बाद 12वीं तक की पढ़ाई झज्जर से की है। उसके बाद बीटेक के लिए एचएयू में दाखिला हो गया। पिता इंजीनियर विजय कुमार मेवात में कृषि विभाग में सहायक कृषि अभियंता के पद पर कार्यरत हैं जबकि माता पुष्पा यादव गृहिणी हैं।

इस क्षेत्र में आने के लिए शिवांशी को प्रेरणा अपने पिता से मिली है। क्योंकि उनके पिता ने विश्वविद्यालय के कृषि अभियांत्रिकी एवं प्रौद्योगिकी महाविद्यालय से ही स्नातक की पढ़ाई पूरी की है। विश्वविद्यालय की ओर से विद्यार्थिर्यों के लिए आयोजित किए जाने वाले अंतरराष्ट्रीय आदान-प्रदान कार्यक्रम, पुस्तकालय, शिक्षकों व सहयोगी विद्यार्थियों का भरपूर सहयोग मिला है।

खबरें और भी हैं...