परीक्षा की घड़ी:शहर के 36 सेंटरों पर हुआ 10वीं के साइंस का पेपर, प्रिंटर खराब, 1 घंटे देरी से मिला पेपर

हिसारएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

काेराेना संक्रमण काे देखते हुए सीबीएसई ने विद्यार्थियाें की सहूलियत के लिए ऑब्जेक्टिव टाइप पैटर्न पर परीक्षा लेने का निर्णय बेशक किया हाे, लेकिन परीक्षा केंद्राें पर लेट पेपर मिलने से विद्यार्थियाें काे परेशानियाें का सामना करना पड़ रहा है। क्याेंकि बाेर्ड द्वारा पेपर मेल पर भेजे जा रहे हैं और उसके बाद वह पेपर केंद्र पर ही फाेटाे काॅपी कराने पड़ते हैं।

इसके साथ इंटरनेट स्पीड कम हाेने के कारण डाउनलाेड नहीं पाता है। इसी कड़ी में गुरुवार काे दसवीं का साइंस का पेपर लिया गया। सेंट मैरी स्कूल में प्रिंटर खराब हाेने के कारण विद्यार्थियाें काे एक घंटे की देरी से पेपर दिया गया। जिससे उनमें पेपर छूटने की टेंशन बढ़ी। दूसरी ओर अभिभावक भी गेट के बाहर बच्चाें की बाट देखते नजर अाए। अभिभावकाें ने पेपर देरी से मिलने का राेष जताया। वहीं शहर में बनाए 36 परीक्षा केंद्राें पर दसवीं के साइंस विषय की परीक्षा शांतिपूर्वक कराई गई। विद्यार्थियाें ने बताया कि साइंस का पेपर आसान था। ओएमआर शीट पर उत्तर भरने में भी ज्यादा समय नहीं लगा।

पेपर लेट हाेने पर दिया अतिरिक्त समय: डाॅ. इंदू
जिला काॅर्डिनेटर डाॅ. इंदू शर्मा ने बताया कि बाेर्ड द्वारा पेपर मेल या बाेर्ड के लिंक पर दिए जा रहे हैं। इसके बाद परीक्षा केंद्र पर फाेटाे काॅपी कराकर विद्यार्थियाें काे पेपर बांटे जाते हैं। उन्हाेंने बताया कि सेंट मैरी स्कूल में 5 प्रिंटर लगाए गए हैं। किसी कारण एक प्रिंटर खराब हाे गया था। जिसके कारण विद्यार्थियाें काे एक घंटे की देरी से पेपर मिला। देरी से पेपर दिए जाने के कारण बच्चाें काे पेपर करने के लिए एक घंटा अतिरिक्त दिया गया। इसके साथ ही बाेर्ड के द्वारा विद्यार्थियाें काे 20 मिनट पेपर पढ़ने के लिए अतिरिक्त दिए जा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...