पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इलाज को मशक्कत:हिसार के अस्पताल व अग्राेहा मेडिकल कालेज में बेड न मिलने से 27 वर्षीय युवक की माैत

हिसार11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जुलाना | सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से खाली सिलेंडरों को अपनी निजी गाड़ी में लेकर जाता वाहन चालक। - Dainik Bhaskar
जुलाना | सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से खाली सिलेंडरों को अपनी निजी गाड़ी में लेकर जाता वाहन चालक।
  • पिछले तीन दिन से था काेराेना संक्रमित, छह माह पहले हुई थी शादी

भले ही स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी और जनप्रतिनिधि अस्पतालाें में ऑक्सीजन की किल्लत और मरीजाें काे परेशानी नहीं हाेने का दावा कर रहे हाे मगर गंभीरावस्था वाले मरीजाें काे सरकारी अस्पतालाें में भर्ती नहीं किया जा रहा है।

एचएयू के लैब अटैंडेंट के 27 वर्षीय बेटे की हालत बिगड़ी ताे परिजनाें ने सिविल अस्पताल और अग्राेहा मेडिकल काॅलेज, प्राइवेट अस्पतालों में भर्ती कराने की गुहार लगाई। मगर उसे भर्ती नहीं किया गया। यही नहीं ऑक्सीजन की कमी हुई ताे वह देने से भी इनकार कर िदया।

इस स्थिति में हिसार के पार्षद अमित ग्राेवर ने किसी तरह मरीज के लिए ऑक्सीजन की व्यवस्था कराई। घर पर मरीज काे ऑक्सीजन दी गई। परिजनाें का आराेप है कि अस्पताल में भर्ती नहीं कराने के कारण साेमवार काे सुबह के समय युवक ने दम ताेड़ दिया। करीब छह माह पहले ही युवक की शादी हुई थी। परिजनाें ने युवक की माैत के लिए जिम्मेदार अस्पताल प्रशासन की शिकायत डीसी से भी करने की बात कही है।

दरअसल, एचएयू के लैब अटैंडेंट धन सिंह का बेटा याेगेश तीन दिन पहले काेराेना संक्रमित आया था। जिस पर उसे हाेम क्वारेंटाइन कर दिया गया। रविवार काे सुबह करीब साढ़े सात बजे अचानक ही युवक योगेश की हालत बिगड़ने लगी। ऑक्सीजन लेवल कम हाे गया।

जुलाना में मरीज की मौत, परिजनों ने ऑक्सीजन न मिलने के लगाए आरोप

जुलाना के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में सोमवार को ऑक्सीजन की कमी से एक व्यक्ति की मौत हो गई। परिजनों ने अस्पताल में ऑक्सीजन न मिलने के आरोप लगाए हैं। गांव किलाजफरगढ़ निवासी सुनील(45) को सांस और बुखार की दिक्कत के चलते सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ले जाया गया।

मृतक के भाई कृष्ण ने आरोप लगाया कि अगर मौके पर ऑक्सीजन होती तो शायद उसकी जान बच सकती थी। चिकित्सकों के अनुसार मृतक का ऑक्सीजन लेवल कम था। उसे अभी प्राथमिक उपचार ही दिया जा रहा था कि उसने दम तोड़ दिया। ऑक्सीजन मौजूद थी और ऑक्सीजन भी मंगवा दी गई है। संदीप ने बताया कि पौने चार घंटे की जद्दोजहद के बाद सिलेंडर मिला। तब तक रिश्तेदार को सीएचसी में ऑक्सीजन के लिए तड़पना पड़ा।

ऑक्सीजन की कमी नहीं

अस्पताल में ऑक्सीजन मंगवा दी गई है, लेकिन मरीज की ऑक्सीजन का लेवल बिल्कुल कम था, जिससे उसकी मौत हो गई। मृतक ने प्राथमिक उपचार के दौरान ही दम तोड़ दिया नहीं तो ऑक्सीजन एंबुलेंस में भी मौजूद थी। मरीजों को ऑक्सीजन की कमी नहीं होने दी जाएगी।
-नरेश वर्मा, एसएमओ, जुलाना।

पार्षद अमित ग्राेवर और अग्राेहा मेडिकल काॅलेज के डाॅक्टराें के बीच ये हुई वार्ता

पार्षद- सर, नमस्कार, एक युवक की हालत बहुत ही ज्यादा खराब है, उसे अस्पताल में बेड दिलवा दीजिए।
डाॅक्टर- बेड पूरी तरह से फुल हैं, अभी के लिए माफ कीजिएगा।

पार्षद- सर, युवक की जान भी जा सकती है।
डाॅक्टर- सुबह 9 बजे तक यदि काेई भी बेड खाली हाेता है ताे मैं खुद ही काॅल करके बताता हूं।

पार्षद- सर, आपका काफी नाम सुना है, प्लीज कुछ ताे कराइए।
डाॅक्टर- बेड खाली हाेते ही काॅल करता हूं, चिंता मत कराे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें