पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बड़ी राहत:50 हजार ने कोरोना को हराया, रविवार को 140 नए रोगी मिले

हिसार22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
राजगुरु मार्केट में संडे को लॉकडाउन के चलते बंद दुकानें। सरकार ने लॉकडाउन के चलते दुकानें खोलने के समय में बदलाव किया है। अब सुबह 9 बजे से दोपहर 3 बजे तक ऑड-ईवन के हिसाब से दुकानें खुल सकेंगी। - Dainik Bhaskar
राजगुरु मार्केट में संडे को लॉकडाउन के चलते बंद दुकानें। सरकार ने लॉकडाउन के चलते दुकानें खोलने के समय में बदलाव किया है। अब सुबह 9 बजे से दोपहर 3 बजे तक ऑड-ईवन के हिसाब से दुकानें खुल सकेंगी।
  • कोविड -19 - जिले में अभी 1 हजार 872 सक्रिय मामले, रिकवरी रेट 94.61 प्रतिशत

जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण के नए मामलों में लगातार कमी देखी जा रही है। रविवार को कोरोना संक्रमण के 140 नए मामले सामने आए। 385 संक्रमित ठीक हुए हैं। इतना ही नहीं कोरोना काल में 50 हजार 17 रोगी कोरोना को हराकर चुके हैं।

इधर, कोविड पोर्टल पर 12 मौतें दर्ज हुई हैं। जिले में अभी कोरोना के 1 हजार 872 सक्रिय मामले हैं। ऐसे में मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग व शारीरिक स्वच्छता के सभी नियमों का निरंतर रूप से पालन किया जाना चाहिए।

रविवार को स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक रिकवरी रेट 94.61 प्रतिशत है। हिसार में कोरोना के अब तक कुल 52 हजार 866 मामले सामने आ चुके हैं। जिले में कोरोना से मरने वालों की बात की जाए तो अब तक कुल 977 लोगों की मौत हो चुकी है।

12 रोगियों की मौत का आंकड़ा कोविड पोर्टल पर अपडेट हुआ है। इनमें से 2 रोगियों ने अस्पताल पहुंचने से पहले और 10 ने वेंटिलेटर पर दम तोड़ा था। 7 ग्रामीण व 5 शहरी, 8 महिलाएं व 4 पुरुषों सहित 9 पहले से गंभीर बीमारियों से ग्रस्त थे।

सजगता और प्रबंधों के चलते स्थिति काबू में: डीसी

1. डीसी डॉ. प्रियंका सोनी ने नागरिकों से अपील करते हुए कहा कि जिलावासियों की सजगता और प्रशासन के प्रबंधों के चलते हिसार में कोरोना की स्थिति काबू में आई है। अभी भी इस बीमारी को पूरी तरह से मात देने में और समय लगेगा। जिले में कोरोना महामारी का ग्राफ लगातार नीचे आ रहा है लेकिन इसका यह मतलब नहीं की बीमारी समाप्त हो रही है। देश और विदेश के वैज्ञानिकों ने महामारी की तीसरी लहर की भी आशंका व्यक्त की है। ऐसे में हम सभी को पहले की तरह सावधानियां बरतनी होगी। 2. पूर्व के अनुभवों से यह पता चलता है कि महामारी के लक्षण आने पर सैंपलिंग न करवाना और लक्षणों को अनदेखा करने पर संक्रमण के प्रसार का बड़ा कारण था क्योंकि किसी एक व्यक्ति के संक्रमित होने से दूसरों के संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। यदि लक्षण होते ही संबंधित व्यक्ति अपना कोरोना टेस्ट करवा लेता है तो चेन बनने रुकती।

कोरोना की दूसरी लहर में अब तक 650 मौतें हो चुकी

  • पहली लहर में संक्रमित 17147
  • दूसरी लहर में संक्रमित 35719
  • कुल रोगी मिले 52866
  • सैंपल रिपोर्ट पेंडिंग 1850
  • पहली लहर में मौतें 327
  • दूसरी लहर में मौतें 650

नियम तोड़ने पर कार्रवाई

  • बिना मास्क चालानः 102
  • मोटर वाहन अधिनियम के तहत चालानः 64
  • वाहन जब्त किए : 2
खबरें और भी हैं...