गीता महोत्सव का समापन समारोह:गीता जयंती महोत्सव के समापन पर शहर में भव्य शोभा यात्रा निकाली

हिसारएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गवर्नमेंट कॉलेज में गीता जयंती महोत्सव में मंचन करते कलाकार। - Dainik Bhaskar
गवर्नमेंट कॉलेज में गीता जयंती महोत्सव में मंचन करते कलाकार।

गवर्नमेंट पीजी काॅलेज में तीन दिवसीय जिला स्तरीय गीता महोत्सव का समापन अनूठे तरीके से किया गया। जहां एक मंच पर बच्चे से लेकर हर वर्ग ने गीता के 18 अध्यायाें के 18 श्लाेक उच्चारण किया। वहीं दूसरी ओर शहर काे गीतामय बनाने के लिए डीसी डाॅ. प्रियंका साेनी ने शाेभा यात्रा काे झंडी दिखाकर रवाना किया। यात्रा में रथ पर गीता के संग हवन यज्ञ करते हुुए शहर में सुंदर झांकियां निकाली गईं। मंच पर कलाकाराें ने चीरहरण का मंचन किया। कान्हा की नटखट लीलाओं काे नाटक और नृत्य के माध्यम से दिखाया गया।

तीसरे दिन के कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्यातिथि एचएयू व जीजेयू के कुलपति प्राे. बीआर काम्बाेज ने किया। उन्हाेंने कहा कि पवित्र गीता ग्रंथ हरियाणा प्रदेश के लिए गर्व है। इसलिए हम सभी को प्रत्येक वर्ष अन्य त्यौहारों की भांति ही पूरी श्रद्धा के साथ गीता जयंती पर्व मनाना चाहिए। भगवान श्रीकृष्ण के मुख से निकले गीता उपदेश की स्थली होने पर हरियाणा को गर्व है। इसी धरा से पूरे विश्व को गीता ज्ञान मिला है, जितना अधिक गीता का अध्ययन किया जाए, उतना ही मानव जीवन की समस्याओं से छुटकारा मिलता है।

डीसी डॉ. प्रियंका सोनी ने विद्यार्थियाें को गीता का महत्व बताते हुए कहा जीवन को सरल बनाने के लिए गीता का ज्ञान बहुत जरूरी है। गीता केवल हिंदुओं का ग्रंथ न होकर सभी धर्म के नागरिकों को सार्वभौमिक संदेश देती है। समारोह में आचार्य नरेशानंद ने गीता में विश्व रूप दर्शन योग और शबनम हंस ने गीता में वर्णित 26 गुण के बारे में बताया।

छवि ने अपनी सुरीली आवाज का बिखेरा जादू

शांति सद्भावना प्रार्थना करते हुए सात साल की छवि ने जब हे याेगेश्वर हे परमेश्वर एेसी कृपा प्रभु हम सब पै कर गीत सुनाया, ताे उसकी सुरीली और मधुर आवाज काे सुनकर हर काेई कायल हाे गया। इसके साथ मैं बरसाने की छाेरी गीत पर गवर्नमेंट स्कूल की छात्रा पलक और भूमिका ने शानदार प्रस्तुति दी। मूक बधिर बच्चाें ने रणभूमि दिए कृष्ण के उपदेश काे अपने इमाेशन और इशारे के साथ समझाया।

खबरें और भी हैं...