• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • A Student And Professor Of Food And Nutrition Department Of HAU's Hem Science College Prepared The Product, Chapati, Cake, Biscuit, Dalia Paratha Prepared From Rice sorghum And Soybean Okra To Prevent Wheat Allergy

भास्कर खास:एचएयू के हाेम साइंस काॅलेज के खाद्य एवं पाेषण विभाग की छात्रा व प्राेफेसर ने तैयार किए प्रोडक्ट, व्हीट एलर्जी से बचाव के लिए तैयार किए चावल-ज्वार और साेयाबीन के ओकरा से चपाती, केक, बिस्किट, दलिया पराठा

हिसार3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

व्हीट एलर्जी से ग्रस्त लाेगाें के लिए राहत की खबर है। एचएयू के हाेम साइंस काॅलेज के खाद्य एवं पाेषण विभाग की छात्रा शालिनी, असिस्टेंट प्राेफेसर डाॅ. उर्वशी ने कई साल की लंबी रिसर्च के बाद साेयाबीन के ओकरा से ग्लूटेन फ्री ज्वार का आटा, चावल मिश्रित कर केक, चपाती, दलिया, बिस्किट, पराठा तैयार किए हैं, जिसके सेवन से व्हीट एलर्जी नहीं हाेगी, क्योंकि साेयाबीन के वेस्ट बायाे प्राेडेक्ट ओकरा के इस्तेमाल के कारण सभी प्राेडक्ट ग्लूटेन फ्री है।

दरअसल, पिछले कुछ समय से व्हीट एलर्जी के केस बढ़ रहे हैं। व्हीट एलर्जी हाेने के बाद अनाज से निर्मित प्राेडेक्ट का सेवन करना बंद करना हाेता। एलर्जी के कारण दस्त से लेकर अन्य राेगाें हाेने लगते हैं। इसी समस्या काे देखते हुए एचएयू के गृह विज्ञान विभाग की हेड डाॅ. संगीता सिंधू और असिस्टेंट प्राेफेसर डाॅ. उर्वशी नांदल की देखरेख में छात्रा शालिनी ने ग्लूटेन फ्री प्राेडेक्ट पर रिसर्च शुरू की। प्राे. उर्वशी नांदल के अनुसार छात्रा ने कड़ी मेहनत के बाद पाया कि साेयाबीन के बायाे प्राेडेक्ट ओकरा, जिसे वेस्ट समझकर फेंक दिया जाता है।

ओकरा का इस्तेमाल चावल, ज्वार के आटा आदि मिश्रित कर किया। लंबी रिसर्च के बाद मिश्रित आटे के माध्यम से बिस्किट, चपाती, केक, दलिया, पराठा तैयार किए, जाे खाने में ताे स्वादिष्ट है ही, साथ ही ग्लूटेन फ्री भी है। लाेगाें ने भी सभी प्राेडक्ट काे काफी पसंद किया है। इसमें सामान्य की उपेक्षा फाइबर और आयरन की मात्रा भी अधिक है।

एचएयू के गृह विज्ञान विभाग की डीन डाॅ. बिमला ढांडा, खाद्य एवं पाेषण विभाग की हेड डाॅ. संगीता सिंधू के अनुसार ग्लूटेन फ्री पदार्थ तैयार करने के लिए साेयाबीन से निकलने वाले ताजा ओकरा को सूखी विधि का उपयोग करके सुखाया गया। मिश्रित आटा चपाती, दलिया और बिस्कुट के लिए पैनल ने स्वीकार्य पाया। पाया गया कि बने खाद्य पदार्थाें में क्रूड फाइबर, क्रूड प्रोटीन, कैल्शियम और लोहे जैसे पोषक तत्व ग्लूटेन मुक्त मूल्य वर्धित उत्पादों में अधिक थे। यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि उत्पाद विकास के लिए ज्वार, चावल और ओकरा के संयोजन ग्लूटेन मुक्त खाद्य उत्पादों के रूप में एक अच्छा विकल्प हो सकते हैं और आवश्यकता को पूरा कर सकते हैं।

जानिए... क्या है व्हीट एलर्जी और इसके लक्षण

व्हीट एलर्जी यानी ग्लूटेन से पीड़ित बच्चाें का न ताे पूरा विकास हाे पाता है और न ही सही इलाज। दस्त के साथ कद नहीं बढ़ना, रक्त की कमी भी हाे सकती है। यह एक आटाे इम्यून राेग है, जिसमें शरीर एक प्रतिराेधी तंत्र पनपते ही प्राेटीन के खिलाफ एंटीबाॅडीज बनाना शुरू कर देती है, जिन्हें ग्लूटेन से एलर्जी है, उनमें छाेटी आंत का नुकसान पहुंचता है।

खबरें और भी हैं...