18 क्षेत्राें के 80 हजार लाेगाें काे मिलेगा स्वच्छ पेयजल:साढ़े ‌‌5 कराेड़ से कैमरी राेड का वाटर ट्रीटमेंट प्लांट हाेगा अपग्रेड

हिसार2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कैमरी राेड जलघर से जुड़े शहर के 18 क्षेत्राें में रहने वाले 80 हजार लाेगाें काे अब स्वच्छ पेयजल मिलेगा। इतना ही नहीं, वर्तमान समय में 24 घंटे के अंदर इस जलघर में सवा कराेड़ लीटर पानी काे स्वच्छ किया जा रहा है। अगर यह प्लांट अपग्रेड हाेता है ताे 24 घंटे के अंदर ही दाेगुना लीटर पानी काे स्वच्छ किया जा सकेगा। अर्थात अाने वाले 15 साल तक कैमरी राेड जलघर के अंतर्गत रहने वाले 18 क्षेत्राें में रहने वाली अाबादी काे उनके हिसाब से स्वच्छ पानी मिल सकेगा। पब्लिक हेल्थ की तरफ से वाटर ट्रीटमेंट प्लांट काे अपग्रेड कर स्काडा सिस्टम से जाेड़ा जा रहा है, िजस पर साढ़े 5 कराेड़ रुपये खर्च किए जाएंगे, िजसके िलए बजट पर मंजूरी मिल चुकी है। अाने वाले 18 माह के अंदर इस जलघर में वाटर ट्रीटमेंट प्लांट काे अपग्रेड कर दिया जाएगा। इससे पहले कैमरी राेड जलघर से 46 साल पुराने पैर्टन स्लाे रेपिड सेंड फिल्टर सिस्टम के हिसाब से 80 हजार लाेगाें काे स्वच्छ पेयजल दिया जा रहा है। बता दें कि 1976 से अभी तक 30 हजार लाेगाें के हिसाब से स्वच्छ पेयजल 18 क्षेत्राें में रहने वाले लाेगाें काे सप्लाई किया जा रहा है।

कैमरी राेड जलघर से जुड़े ये हैं 18 क्षेत्र {पटेल नगर {जवाहर नगर {लाजपत नगर {मनाेहर काॅलाेनी {चंद्रलेन {फ्रेंड्स काॅलाेनी {ग्रीन पार्क {मिनी सेकेटरेट {डिफेंस लक्ष्मी विहार {उमेद विहार {अमरदीप काॅलाेनी {गीता काॅलाेनी {महेश नगर {माल काॅलाेनी {श्याम विहार {इंजीनियर काॅलाेनी {महेश नगर {श्याम इन्कलेव

स्लाे रेपिड सेंड फिल्टर सिस्टम प्रक्रिया में पानी शुद्ध करने की रफ्तार हाेती है धीमी स्लाे रेपिड सेंड फिल्टर सिस्टम प्रक्रिया में पेयजल काे शुद्ध करने की रफ्तार काफी धीमी हाेती है। पानी काे स्वच्छ करने में भी काफी वक्त लगता है। इसके अलावा खास बात है कि पेयजल काे फिल्टर करने की पूरी प्रक्रिया काे मैनुअल ताैर पर करनी पड़ती है, जबकि स्काडा सिस्टम में पेयजल काे शुद्ध करने की पूरी प्रक्रिया स्वचालित हाेती है, िजसमें एक ताे कम कर्मचारियाें की जरूरत हाेती है। दूसरा कम से कम समय में पेयजल की अधिक मात्रा काे स्वच्छ किया जा सकता है।

24 घंटे में एक अादमी की 155 लीटर है पानी की खपत, इसमें दिनचर्या तक शामिल 24 घंटे में एक अादमी काे 155 लीटर पानी की खपत करता है, िजसमें पानी पीने से लेकर दैनिक दिनचर्या में शामिल कार्य शामिल है। वर्तमान समय में कैमरी राेड जलघर से एक अादमी काे एक दिन में 130 लीटर पानी दिया जा रहा है।

18 माह में वाटर ट्रीटमेंट प्लांट को अपग्रेड कर दिया जाएगा ^हमें साढ़े 5 कराेड़ रुपये बजट अलाॅट हाे चुके हैं। िजससे कैमरी राेड जलघर में वाटर ट्रीटमेंट प्लांट काे अपग्रेड कर क्षमता काे दाेगुना बढ़ाया जाएगा। िजससे इस जलघर से शहर के 18 क्षेत्राें में रहने वाले 80 हजार लाेगाें काे स्वच्छ जल मिलेगा। अाने वाले 18 माह के अंदर वाटर ट्रीटमेंट प्लांट काे अपग्रेड कर दिया जाएगा।'' -बलविंदर नैन, एक्सईएन, पब्लिक हेल्थ, हिसार।

खबरें और भी हैं...