ठगी के आरोपी धराए:ऑफिसर से 18.80 लाख ठगी के आरोपी पकड़े, कई जगह सैकड़ों अकाउंट बना रखे

हिसार2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • विदेशी महिलाओं की फर्जी आईडी बनाकर लोगों से करते थे ठगी

भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान में चीफ वेटरनरी ऑफिसर अश्वनी कुमार से विदेश में शिक्षा दिलवाने व दिल्ली एयरपोर्ट के कस्टम विभाग से पार्सल छुड़वाने के नाम पर 18.80 लाख रुपये ठगने के मामले में गिरफ्तार अफ्रीकी नागरिक सीसे अब्बू व लोगनन लाजरे वासी अक्यूप कोटिड इवोयर (पश्चिम अफ्रीका का एक देश) हाल किरायदार कमालपुर बुराड़ी दिल्ली को रिमांड खत्म होने पर शनिवार को अदालत में पेश किया, जहां से दोनों को जेल भेज दिया है। इससे पूर्व मामले में गिरफ्तार महिला मणिपुर हाल दिल्ली स्थित बुराड़ी वासी रोज वाईफे को सलाखों के पीछे भेजा जा चुका है।

रेंज साइबर क्राइम थाना में जांच अधिकारी नरेंद्र कुमार ने बताया कि अफ्रीकी नागरिक सीसे और लोगनन ने पूछताछ में बताया कि दोनों विजिटर वीजा पर इंडिया आए थे। करीब दो माह पहले हमारा वीजा समाप्त हो चुका है और दिल्ली के बुराड़ी में रहते हैं। पढ़े-लिखे कम हैं मगर अंग्रेजी बोलने में माहिर हैं। हजारों लोगों को ठग चुके हैं। विदेशी महिलाओं की फर्जी आईडी तैयार करके लोगों के पास रिक्वेस्ट भेजकर चैटिंग शुरु करते हैं। महिला को विधवा या अविवाहित बताते हैं। हमारी चैट पहले से तैयार होती है जिसे मैसेंजर में सिर्फ कॉपी व पेस्ट करना होता है। फिर लोग खुद से मैसेज करने लगते हैं। लोगों को विश्वास दिलवाने के लिए वीडियो कॉल करके कैमरे के सामने विदेशी महिला की वीडियो चला देते हैं।

बातचीत करने के लिए वॉयस रिकॉर्डिंग माइक के पास शुरू कर देते हैं। सामने वाले को लगता है कि महिला उनसे बात कर रही है। विश्वास पक्का होता देख मीटिंग या फैमिली में बिजी की कहकर कॉल डिस्कनेक्ट कर देते हैं। इसके बाद उनसे ठगी के लिए नये पैंतरे-पैंतरे अजमाते रहते हैं। किसी को विदेश में शिक्षा दिलवाने तो किसी को कस्टम से महंगा सामान छुड़वाने के नाम पर ठगते हैं। लोग भी आसानी से उनके झांसे में आ जाते हैं। सैकड़ों फर्जी सोशल मीडिय अकाउंट बना रखे हैं, जिनके जरिए लोगों को फ्रैंड्स रिक्वेस्ट भेजते हैं। चीफ वेटरनरी ऑफिसर को इसी तरह ठगा था।

खबरें और भी हैं...