हरियाणा में आज भी छाए रहेंगे बादल:बारिश होने के आसार कम; बुधवार से चमकेगा सूरज, बूंदाबांदी से गेंहू-चने को फायदा, सरसों को नुकसान

हिसार4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा में वेस्टर्न डिस्टर्बेंस के कारण बारिश हो रही है, जिसने हाड़ कंपा दिए हैं। शनिवार को हुई झमाझम बारिश के बाद भी मौसम अभी तक साफ नहीं हुआ है। मौसम विभाग के अनुसार, आगामी दो दिनों तक इसी तरह बादल छाए रहेंगे, लेकिन बारिश होने के आसार कम हैं। बुधवार से मौसम साफ हो जाएगा व बादल भी छंट जाएंगे। बुधवार से सूरज चमकने व सर्दी से राहत मिलने की उम्मीद है।

शनिवार को हिसार व आसपास के एरिया में 21.6 एम एम बारिश हुई। जनवरी महीने में अब तक कुल 64.6 एम एम बारिश हो चुकी है। रविवार को अधिकतम तापमान 15 डिग्री तक पहुंचने व न्यूनतम तापमान 9 डिग्री तक रहने का अनुमान है। 11 से 15 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवा चल सकती है, जिससे ठंडक बढ़ेगी। पश्चिमी विक्षोभ का प्रभाव 23 जनवरी तक रहने की संभावना है।

एचएयू मौसम विज्ञान विभागाध्यक्ष डॉ. मदन खीचड़ ने बताया कि राज्य के उत्तर पश्चिमी तथा दक्षिण क्षेत्रों में हवाएं चलने के साथ कहीं-कहीं बूंदाबांदी व हल्की बारिश होने की संभावना है। परन्तु 24 जनवरी को उतरी हरियाणा के कुछ एक स्थानों पर छिटपुट बूंदाबांदी व अन्य क्षेत्रों में आंशिक बादलवाई रहेगी। 25 जनवरी को राज्य के ज्यादातर क्षेत्रों में मौसम खुश्क तथा अलसुबह धुंध छाने तथा 26 जनवरी से हल्की गति से उत्तर पश्चिमी हवाएं चलने से रात्रि तापमान में गिरावट संभावित है।

खेतों में लहलहाती सरसों की फसल।
खेतों में लहलहाती सरसों की फसल।

गेहूं-चने को फायदा, सरसों में रोग प्रकोप बढ़ने का खतरा

जनवरी महीने में लगातार हो रही बारिश के कारण रबी सीजन की फसल गेहं, चना व जौ को भरपूर फायदा मिलेगा। वहीं सरसों की फसल को नुकसान होने की संभावना है। खंड कृषि अधिकारी डॉ. रघुबीर कालीरामणा ने बताया कि गेहूं और चने की फसलों में अभी भी बढ़वार हो रही है, ऐसे में बूंदाबांदी से फायदा मिलेगा। वहीं सरसों की फसल पकने की तरफ है। लगातार नमी वाला मौसम बना रहने के कारण सरसों में रोनी व मोहेला रोग का प्रकोप बढ़ सकता है। सरसों के फूल भी झड़ने से नुकसान होगा। किसान धूप निकलने के बाद फसलों में स्प्रे कर सकते हैं।