पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Children Will Study With The Help Of Paintings And Paintings Made On The Walls When The School Opens, 318 Schools Will Have Face Lifting Work

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पहल:स्कूल खुलने पर दीवारों पर बनी पेंटिंग और चित्रों की मदद से पढ़ेंगे बच्चे, 318 स्कूलों में होगा फेस लिफ्टिंग का कार्य

हिसारएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सरकारी स्कूल में बच्चों को आकर्षित करने के लिए बनाई वॉल पेंटिंग्स।

स्कूल खोलने पर बच्चों की पढ़ाई से बनी दूरी को खेल-खेल में दूर करने के लिए शिक्षा विभाग ने स्कूलों को नवीनीकरण करवा उनकी दशा बदल दी है। पहले सरकारी स्कूल की स्थिति को सोचते ही पुराने समय की बिल्डिंग व क्लासरूम ही जहन में आता था। अब समग्र शिक्षा लोगों की यह धारणा बदलने के लिए न केवल इंफ्रास्ट्रक्चर पर ध्यान दे रहा है बल्कि बच्चे खेल के माध्यम से पढ़ाई की तरफ बढ़े इसलिए क्लासरूम में वॉल पेंटिंग्स के जरिये उसकी स्थिति को सुधारा जा रहा है।

यह कार्य जिले के 318 स्कूलों में करवाया जा रहा है जिसमें कुल 134 स्कूलों में यह कार्य पूरा किया जा चुका है। समग्र शिक्षा द्वारा यह कार्य जुलाई में करवाया जाना था। परंतु कोरोना के चलते यह कार्य बंद रखना पड़ा। यह कार्य पुन: शुरू हो चुका है व अभी चल रहा है। यह कार्य जिले के 247 एलिमेंट्री व 71 सी.से स्कूलों में करवाया जा रहा है। इसके लिए प्रत्येक मौलिक स्कूल को 70 हजार रुपए व सेकंडरी व सीनियर सेकंडरी स्कूल को 1 लाख 40 हजार रुपए की ग्रांट मिली है।

स्कूलों में एसएमसी द्वारा बच्चों के क्लासरूम में वॉल पेंटिंग करवा उन्हें आकर्षक व मनमोहक तरीके से बनाया है। दीवारों पर एक चक्र के द्वारा जहां बच्चे अब देश के इतिहास व महापुरुषों की जानकारी प्राप्त करेंगे, वहीं दीवार पर बनाए मैप के जरिये देश व राज्य की भौगोलिक स्थिति को भी समझ सकेंगे।

पीली गाड़ी बताएगी ट्रैफिक सिग्नल

छोटे बच्चों को ट्रैफिक नियमों के बारे में बताने व जागरूक करने के लिए दीवारों पर रेलगाड़ी से लेकर बस व जैब्रा क्रॉसिंग तक को बनवाया गया है। जो ट्रैफिक की तीन बत्तियों के बारे में बताएगा व साथ ही यह बताएगा कि आगे पुल है या क्रॉसिंग।

गेट का नवीनीकरण कर एंट्री बनाई आकर्षक

एपीसी सुरेंद्र कैंरों ने बताया कि इस ग्रांट का प्रयोग स्कूलों द्वारा अपने अपने ढंग व जरूरत के हिसाब से किया है। जहां कुछ स्कूलों ने इसका प्रयोग वॉल पेंटिंग व क्लास रूम को आकर्षक बनाने में किया है तो कुछ स्कूलों द्वारा इसे बाउंड्री वॉल व स्कूल के एंट्री गेट को आकर्षक बनाया गया, ताकि स्कूल में एंट्री करने पर वह अच्छा लगे।

कोरोना काल के चलते बच्चे पढ़ाई से काफी दूरी बना चुके हैं। छोटे बच्चों को यूं ऑनलाइन पढ़ाना संभव नहीं है। साथ ही सरकारी स्कूल के बच्चों के पास सभी सुविधाएं नहीं हैं कि वे आधुनिक तरीकों से घर बैठे ये जानकारियां ले सकें। बच्चे खेल-खेल में ही अपनी पढ़ाई व सिलेबस को रिकवर कर सकें इसलिए यह कदम उठाया गया। - कुलदीप सिहाग, डीईओ, समग्र शिक्षा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपका कोई भी काम प्लानिंग से करना तथा सकारात्मक सोच आपको नई दिशा प्रदान करेंगे। आध्यात्मिक कार्यों के प्रति भी आपका रुझान रहेगा। युवा वर्ग अपने भविष्य को लेकर गंभीर रहेंगे। दूसरों की अपेक्षा अ...

और पढ़ें