• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Commission Issued Notice To Three MLAs Including Former CM Hooda Asking: Why Not Register A Criminal Case Against You

हिसार में नाबालिग को प्रदर्शन में शामिल कर फंसे हु्ड्‌डा:बाल संरक्षण आयोग का पूर्व CM समेत 3 विधायकों को नोटिस, पूछा- क्यों न आपके खिलाफ आपराधिक केस दर्ज किया जाए

हिसारएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रदर्शन में शामिल बच्चा। - Dainik Bhaskar
प्रदर्शन में शामिल बच्चा।

हरियाणा के हिसार जिले में 20 अगस्त को विधानसभा मानसून सत्र के दौरान कांग्रेस द्वारा महंगाई व नकल के खिलाफ किए गए प्रदर्शन में एक 10 साल के बच्चे को भी शामिल किया गया था। इस पर बाल संरक्षण आयोग ने पूर्व सीएम हुड्‌डा समेत तीन कांग्रेसी विधायकों को नोटिस जारी किया है। आयोग ने पूर्व सीएम हुड्‌डा, विधायक शकुंतला खटक व विधायक कुलदीप वत्स को नोटिस जारी किया है।

नोटिस भेजकर पूछा गया है कि क्यों न एक बच्चे को प्रताड़ित किए जाने पर आपके खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज किया जाए। तीनों नेताओं को इस नोटिस पर 5 दिन में जवाब देना है। नेताओं के अलावा आयोग ने चंडीगढ़ के डीसी से भी इस बारे में स्टेटस रिपोर्ट मांगी है। आयोग ने 23 अगस्त को चंडीगढ़ डीसी को इस मामले में कार्रवाई करने के आदेश दिए थे, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

आयोग की अध्यक्षा ज्योति बैंदा
आयोग की अध्यक्षा ज्योति बैंदा

कांग्रेस ने विस तक पैदल मार्च किया था

विधानसभा के मानसून सत्र के दौरान कांग्रेस ने सरकार को घेरने के लिए विधानसभा तक पैदल मार्च किया था। इस मार्च का नेतृत्व भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने किया था। मार्च के दौरान कांग्रेस विधायक शकुंतला खटक और कुलदीप वत्स जिस रिक्शा को खींच रहे थे, उस पर 10 साल का एक बच्चा सवार था। बच्चों के हाथ में तख्ती थमाई हुई थी, जिस पर पेपर लीक, बेरोजगारी और नौकरियों में भ्रष्टाचार आदि के स्लोगन लगे थे।

गुरुवार को हरियाणा राज्य बाल संरक्षण आयोग की चेयरपर्सन ज्योति बैंदा ने नोटिस तीनों नेताओं को भेजे गए नोटिस के अलावा रोहतक डीसी को भी चिट्‌ठी लिखी है। क्योंकि प्रदर्शन में शामिल बच्चा रोहतक का था, इसलिए डीसी को उसकी काउंसलिंग करवाने को कहा गया था। डीसी से काउंसलिंग रिपोर्ट तलब की गई है। साथ ही पूछा गया है कि बच्चा रोहतक से चंडीगढ़ तक कैसे गया।

नोटिस में लिखा है कि मासूम बच्चे को इस तरह के प्रदर्शन में शामिल करना पूरी तरह से गैर-कानूनी है। तीनों नेताओं को नोटिस जारी करने के अलावा चंडीगढ़ के डीसी से भी स्टेटस रिपोर्ट मांगी गई है। नोटिस का जवाब नहीं मिलने पर आयोग द्वारा इस मामले में कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...