दीपेंद्र और उदयभान का कुलदीप पर कटाक्ष:आदमपुर कुलदीप का नहीं जनता का गढ़; बार- बार दल बदलने से उसकी क्रैडिबिलटी खत्म

हिसार4 महीने पहले
दीपेंद्र हुड्‌डा और उदयभान की अध्यक्षता में शामिल होते हुए कांग्रेसी नेता।

हरियाणा के राज्यसभा सांसद दीपेंद्र हुड्‌डा और कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष उदयभान शनिवार को हिसार पहुंचे। दोनों ने कांग्रेस भवन में आदमपुर क्षेत्र के भाजपा के तीन नेताओं को पार्टी में शामिल किया। कर्ण सिंह रानौलिया वर्ष 2014 में आदमपुर में भाजपा की टिकट पर चुनाव लड़ा था। कृष्ण मंगला और दिलबाग सिंह आर्य शामिल हुए। इसके बाद दीपेंद्र ने कांग्रेस भवन में वर्करों की मीटिंग ली।

दीपेंद्र ने कहा कि कांग्रेस में शामिल होने वालों के मान सम्मान में कोई कमी नहीं आएगी। दीपेंद्र ने कहा कि आदमपुर का उपचुनाव को पूरा प्रदेश देखेगा। भाजपा की सरकार 8 साल से काबिज है। टोहाना में मंत्री दवेंद्र बबली बताते है कि टोहाना में भाजपा का कौन लूट मचा रहा है। कभी रोहतक के सांसद अरविंद शर्मा कहते हैं कि पूर्व मंत्री खा रहा हैं। कभी दादा गौतम पोल खोल रहे हैं। ये सभी भ्रष्टाचार में लगे हुए है। दीपेंद्र ने कहा कि हिसार के लोगों ने भाजपा की 75 पार की हवा निकाल दी। हिसार की 7 में से 5 सीटों पर हरा दिया। राज्यसभा चुनाव में हिसार लोकसभा के 9 विधायकों ने वोट की।

दीपेंद्र ने कहा कि राजीव गांधी- लोंगोवाल समझौते के तहत एसवाईएल का निर्माण किया गया। जब फैसला आ गया तो किसी को अधिकार नहीं है कि हरियाणा का पानी रोके। दीपेंद्र ने कहा कि आदमपुर कुलदीप का नहीं जनता का गढ़ है। कुलदीप कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार के रुप में जीते थे और हिसार की 5 सीटों पर भाजपा हारी थी।

दीपेंद्र हुड्‌डा प्रेस कांफ्रेस में जवाब देते हुए
दीपेंद्र हुड्‌डा प्रेस कांफ्रेस में जवाब देते हुए

कुलदीप की क्रैडिबिलिटी खत्म

प्रदेशाध्यक्ष उदयभान ने कहा कि बार बार दल बदलने से कुलदीप बिश्नोई की क्रैडिबिलिटी खत्म हो गई। वह 6 महीने विदेश में 6 महीने दिल्ली में रहता है। वह किसी के दुख दर्द में शामिल नहीं होता। उदयभान ने कहा कि केजरीवाल ने आदमपुर में आकर जनता के साथ धोखा किया। केजरीवाल कभी कहते हैं कि पंजाब के पास पानी नहीं। एसवाईएल के पक्ष में नहीं है। हरियाणा में आकर कहते हैं कि हमारे में कमी है। हरियाणा कहने लग जाए कि दिल्ली को पानी नहीं देंगे। तब केजरीवाल क्या कहेंगे। आप की दोहरी नीति को लोग अच्छी तरह समझते हैं। कांग्रेस एसवाईएल की लड़ाई लड़ती रहेगी।