पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हिसार में होमगार्ड भर्ती में फर्जीवाड़े का मामला:होमगार्ड विभाग के डीजी, जिला कमांडर, सेंटर कमांडर व सरकार से अदालत ने मांगा जवाब

हिसार13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो।
  • पहले 78 पदाें पर हुई थी फर्जी भर्ती, अब 38 पदों पर होनी थी

होमगार्ड भर्ती में फर्जीवाड़े के मामले में सिविल जज सीनियर डिवीजन नीरू कंबाेज की अदालत ने दायर याचिका पर आगामी सुनवाई के लिए 30 सितंबर की तारीख निर्धारित की है। इसके साथ ही मामले में जवाब पेश करने के लिए होम गार्ड विभाग के डीजी, डिस्ट्रिक्ट कमांडर, सेंटर कमांडर और राज्य सरकार को नोटिस जारी किया है। बता दें कि 2 पूर्व स्वयंसेवक (हाेमगार्ड) अग्रोहा वासी सुनील और लांधड़ी वासी विनोद कुमार की तरफ से वकील योगेश सिहाग ने अदालत में याचिका दायर की थी। इसके 2 बिंदु प्रमुख हैं जिनमें दोनों होमगार्ड को रि-जॉइन करवाना और 38 पदों पर होने वाली भर्ती पर स्टे लगाना है।

इधर, मामले में फर्जीवाड़े के आरोप से घिरने पर विभागी कार्रवाई झेल रहे तत्कालीन कंपनी कमांडर सुखबीर सिंह पानू ने माना कि विभाग में फर्जीवाड़ा चल रहा है। यह करोड़ों रुपयों का खेल है। बता दें कि इससे पहले तत्कालीन जिला कमांडर विनोद कुमार भी फर्जीवाड़े की बात को स्वीकार कर चुके हैं। पूर्व होम गार्ड कर्मी सोनू की तरफ से लगाए फर्जीवाड़े, अनैतिक व अवैध गतिविधियों के आरोपों पर तत्कालीन कंपनी कमांडर सुखबीर पानू का कहना है कि विभाग में फर्जीवाड़ा वर्ष 2019 में हुआ था। 78 होम गार्ड को भर्ती किया था।

इस मामले में हवलदार प्रशिक्षक और प्लाटून कमांडर को रूल 7 के तहत नोटिस मिला था। इसके बावजूद जिला कमांडर ने दोनों को स्वयंसेवक इनरोल करने की कमेटी का सदस्य बना लिया। मेरे ऊपर आरोप लगे जिनका जवाब मांगने की बजाय सीधा कंपनी कमांडर का चार्ज छीन लिया। अब जिन 38 स्वयं सेवकों का नाम भर्ती सूची में अंकित था, वे कभी विभाग में नहीं रहे। इनका रिकॉर्ड भी कार्यालय में उपलब्ध नहीं है। जो पूर्व कर्मी हैं और विभागीय गलती से जिन्हें सेवामुक्त किया गया था, उन्हें इनरोल नहीं किया जा रहा है। इनकी जगह अन्यों को भर्ती करना उनके साथ खिलवाड़ करना है।

खबरें और भी हैं...