आदमपुर में कुलदीप ने काम नहीं 'कारनामे' किए:दीपेंद्र हुड्‌डा बोले- मैं राज्यसभा सांसद; चुनाव नहीं लडूंगा मगर कांग्रेस का कैंडिडेट दमदार होगा

हिसार3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा के हिसार जिले के आदमपुर में शनिवार देर रात तक दीपेंद्र हुड्‌डा ने गांवों में जनसंपर्क अभियान चलाया। दीपेंद्र ने कहा कि आदमपुर में कुलदीप ने काम नहीं कारनामे किए हैं। लोगों के लिए काम नहीं किए। आदमपुर में पार्टी का जो भी उम्मीदवार होगा, वह जिताऊ होगा। दीपेंद्र ने खुद के चुनाव में उतरने की चर्चाओं पर विराम लगाते हुए कहा कि मैं राज्यसभा सांसद हूं। यदि मेरी सीट खाली होती है तो इसका फायदा भाजपा होगा।

इसलिए हम ऐसा कदम कोई नहीं उठाएंगे, जिससे भाजपा को फायदा हो। शीर्ष नेतृत्व जो भी उम्मीदवार देगा, मैं उसके साथ ही खुद को उम्मीदवार मानूंगा। आदमपुर में बहुत-सी बेइमान ताकतें एक हो गई हैं। ईमानदारों को भी एक होना पड़ेगा। हरियाणा में महकमों को बांट कर लूट रहा है। यह दादा गौतम, सांसद अरविंद शर्मा, देवेंद्र बबली से पूछ लेना, इन्हीं के सांसद और विधायक बता रहे हैं कि कौन लूटने में लगा हुआ है।

दीपेंद्र ने कहा कि दल बदल के कारण खाली हुई आदमपुर सीट के पीछे ED, CBI और इनकम टैक्स जैसी सरकारी संस्थाओं की भूमिका बताते हुए सवाल किया कि सरकार बताए उसके पास कौन सी ऐसी मशीन है, जिसके जरिए भाजपा में शामिल होने वाले नेताओं का काला धन सफेद हो जाता है। बता दें कि कुलदीप बिश्नोई के इस्तीफा देने के बाद दीपेंद्र हुड्‌डा दूसरी बार आदमपुर में दौरा कर चुके हैं।

3 अगस्त को कुलदीप ने दिया था इस्तीफा

कुलदीप बिश्नोई ने आदमपुर विधानसभा क्षेत्र से विधायक पद से 3 अगस्त को इस्तीफा दिया। 4 अगस्त को कुलदीप भाजपा में शामिल हो गए। कुलदीप कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष का पद न मिलने से राहुल गांधी से नाराज चल रहे थे। भूपेंद्र हुड्‌डा अपने बेटे दीपेंद्र हुड्‌डा को प्रदेशाध्यक्ष बनाना चाहते थे, परंतु कुलदीप उनकी राह में अड़चन पैदा कर रहे थे। तब हुड्‌डा दलित कार्ड खेलते हुए उदयभान को प्रदेशाध्यक्ष बनाने में सफल रहे।

इससे नाराज कुलदीप बिश्नोई ने राहुल गांधी से मिलने का समय मांगा, परंतु नहीं मिला। तब कुलदीप ने राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार को वोट न देते हुए कहा कि उसने अपनी अंतरात्मा की आवाज पर वोट दिया। क्रॉस वोटिंग से अजय माकन हार गए और कांग्रेस ने उन्हें वर्किंग कमेटी के पद से हटा दिया। इसके बाद कुलदीप भाजपा नेताओं के संपर्क में रहे और राष्ट्रपति चुनाव में भी भाजपा को वोट दिया।