राम रहीम की जेल वापसी की तैयारी:प्रेमियों को रात में प्रसाद देकर घर भेजा; डेरे से लौटने लगे सेवादार

हिसार2 महीने पहले

उत्तर प्रदेश के बरनावा आश्रम में राम रहीम की 40 दिन की पैरोल 23 नवंबर को खत्म हो गई है। राम रहीम अब किसी भी समय डेरे से वापस जेल जा सकता है। राम रहीम ने बुधवार रात को डेरे में सेवा करने आए करीब 500 सेवादारों को प्रसाद देकर वापस जाने के आदेश दे दिए। इसके बाद से बरनावा से सेवादार प्रेमियों का वापस आना शुरू हो गया है। सुबह गेट के बाहर से सेवादार अपने घरों को लौटने शुरू हो चुके हैं।

25 नवंबर तक जा सकता है राम रहीम
राम रहीम के वापस जाने को लेकर अभी तक पूरी स्थिति स्पष्ट नहीं है कि वह आज सुनारिया जेल जाएगा या कल। हालांकि जेल मैन्युअल के अनुसार पैरोल खत्म होने के बाद से अपराधी को आने-जाने का अतिरिक्त समय मिलता है। ऐसे में राम रहीम 25 नवंबर को भी जेल वापस जा सकता है।

बरनावा आश्रम का मुख्य गेट
बरनावा आश्रम का मुख्य गेट

30 दिन में किए 300 से ज्यादा सत्संग
राम रहीम ने अपनी पैरोल के दौरान 30 दिनों में 300 से ज्यादा सत्संग किए। इस दिनों में उसने हिंदुत्व पर जोर दिया। वेदों को दुनिया के सर्वोच्च ग्रंथ बताया। साथ ही 2 नए गाने लांच किए, ताकि नशा से जनता को जागरूक किया जा सकें। नशे के खिलाफ डेप्थ मुहिम भी चलाई। हनीप्रीत को गद्दी मिलने की चर्चाओं पर विराम लगाया और कहा कि हम ही गुरु थे, हैं और रहेंगे।

बरनावा आश्रम का गेट
बरनावा आश्रम का गेट

शाह सतनाम ने की थी स्थापना
राम रहीम को 1 बार फरलो और दो बार पैरोल मिली। राम ने दोनों बार पैरोल यूपी के बरनावा आश्रम में ही काटी है। इस डेरे की स्थापना 1980 में शाह सतनाम ने की थी। शाह सतनाम डेरा सच्चा सौदा के दूसरा संत थे और अपने जीवनकाल में उन्होंने केवल एक ही डेरे की स्थापना की थी। शाह सतनाम ने ही अपने समय में राम रहीम को गद्दी सौंपी थी। इसलिए राम रहीम का इस डेरे से खास लगाव है। आश्रम के पास 100 एकड़ जमीन है।

खबरें और भी हैं...