पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Do Scientific Research Keeping In Mind The Changing Climate And International Competition: Prof. Samar Singh

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बैठक:बदलती जलवायु और अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा को ध्यान में रख वैज्ञानिक करें रिसर्च : प्रो. समर सिंह

हिसारएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एचएयू की अनुसंधान कार्यक्रम समिति की 49वीं बैठक को संबोधित करते कुलपति प्रो. समर सिंह।
  • रिसर्च प्रोग्राम कमेटी की 49वीं बैठक में कृषि वैज्ञानिकों में रिसर्च काे लेकर हुआ मंथन
  • मधुमक्खी पालन, बागवानी व मशरूम खेती को बढ़ावा देने पर रहा जोर

बदलते जलवायु परिवेश व अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा को ध्यान रखकर वैज्ञानिक अपने अनुसंधान कार्य को आगे बढ़ाएं। इससे जहां फसलों की गुणवत्ता कायम रहेगी, वहीं दूसरी ओर अंतरराष्ट्रीय बाजार में भी उनकी डिमांड बढ़ेगी। यह आह्वान एचएयू के कुलपति प्रोफेसर समर सिंह ने वैज्ञानिकों से किया। वे विश्वविद्यालय में ऑनलाइन माध्यम से आयोजित रिसर्च प्रोग्राम कमेटी की 49वीं उच्च स्तरीय बैठक को बतौर चेयरमैन संबोधित कर रहे थे।

प्राेफेसर समर सिंह ने कहा कि वैज्ञानिक फसलों, फलों व सब्जियों की नई किस्मों व तकनीकों को विकसित करते समय इस बात का भी खास ध्यान रखें कि उसका लाभ हर छोटी से छोटी जोत वाले किसान तक पहुंचना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमें किसानों को अधिक से अधिक लाभ पहुंचाने के लिए ड्रोन प्रौद्योगिकी, रोबोटिक्स जैसी दूसरी विकसित तकनीकों को अपनाना होगा और किसानों के अनुकूल बनाना होगा।

एचएयू का देश के खाद्यान भण्डारण में अहम रोल

अनुसंधान निदेशक डॉ. एस.के. सहरावत ने पिछली बैठक के एजेंडों के बारे में चर्चा की और बताया कि विश्वविद्यालय द्वारा बीते सालों में अनाज, दलहन, तिलहन फसलों, सब्जियों और फलों की लगभग 250 किस्में विकसित की जा चुकी हैं। एचएयू के पास 17 पेटेंट, 2 डिजाइन, 5 कॉपीराइट और एक व्यापार चिह्न हैं। विश्वविद्यालय का देश के खाद्यान भण्डारण में अहम रोल है।

इस दौरान वैज्ञानिकों ने सुझाव दिया कि अगर किसान समूह बनाकर खेती करें तो महंगी तकनीकों के खर्च को वहन करने में सक्षम हो सकते हैं और अधिक लाभ कमाकर आर्थिक रूप सेे समृद्ध बन सकते हैं। बैठक के दौरान कृषि वैज्ञानिकों ने मधुमक्खी पालन की आधुनिक तकनीकों को अपनाने पर जोर दिया। किसानों से बागवानी के क्षेत्र में भी फलों की उन्नत किस्मों को अपनाते हुए आगे बढ़ने की अपील की। मशरूम की विभिन्न किस्मों को लेकर भी चर्चा की।

इन्होंने लिया बैठक में हिस्सा

बैठक मेें एचएयू ही नहीं अपितु प्रदेश के कृषि एवं बागवानी विभाग के महानिदेशक, महिला एवं बाल विकास विभाग, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के अलावा विशेष आमंत्रित सदस्य के रूप में राष्ट्रीय डेयरी अनुसंधान संस्थान करनाल, केंद्रीय भैंस अनुसंधान संस्थान हिसार, राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान संस्थान, हिसार, मत्स्य विभाग हरियाणा, पर्यावरण विभाग के निदेशक, लुवास से अनुसंधान निदेशक, एचएयू के वित्त नियंत्रक सहित एचएयू व लुवास के सभी महाविद्यालयोंं के अधिष्ठाता एवं निदेशकों ने भाग लेकर विचार साझा किए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिस्थिति तथा समय में तालमेल बिठाकर कार्य करने में सक्षम रहेंगे। माता-पिता तथा बुजुर्गों के प्रति मन में सेवा भाव बना रहेगा। विद्यार्थी तथा युवा अपने अध्ययन तथा कैरियर के प्रति पूरी तरह फोकस ...

और पढ़ें