पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Each And Every Nail In Delhi Will Be Targeted, Next Target Of 40 Lakh Tractors Will Go Across The Country, There Will Be Plow Revolution: Tikait

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

किसान आंदोलन:दिल्ली की एक-एक कील काढ कै आणी सै, अगला टारगेट 40 लाख ट्रैक्टरों का, देशभर में जाएंगे, हल क्रांति होगी: टिकैत

बालसमंद/बरवाला/हिसार16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बालसमंद में महापंचायत को संबोधित करते किसान नेता राकेश टिकैत। हिसार, सिरसा, भिवानी के अलावा राजस्थान के चूरू और हनुमानगढ़ से भी किसान पहुंचे। - Dainik Bhaskar
बालसमंद में महापंचायत को संबोधित करते किसान नेता राकेश टिकैत। हिसार, सिरसा, भिवानी के अलावा राजस्थान के चूरू और हनुमानगढ़ से भी किसान पहुंचे।
  • खरक पूनिया और बालसमंद में महापंचायत में उमड़ी किसानों की भीड़, राकेश टिकैत पहुंचे

कृषि कानूनों के विरोध में गुरुवार को जिले के गांव खरक पूनिया और बालसमंद में किसानों ने महापंचायतें कीं। दोनों ही जगह किसान नेता राकेश टिकैत पहुंचे। जहां किसानों की भारी भीड़ उमड़ी। रैली में महिलाओं की संख्या भी ज्यादा रही। खरक पूनिया गांव में किसान यूनियन हरियाणा के अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी भी पहुंचे।

महापंचायतों में भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि हालात खराब हैं, लाखों किसान दिल्ली बैठे हैं, मगर सरकार की नियत में खोट है जो मान नहीं रही है। एमएसपी पर कानून बनने पर बाजरे का सही मूल्य मिलेगा मगर आज दिल्ली के मॉल्स में बाजरे का आटा 120 रुपए किलो तक में बिक रहा है।

टिकैत ने कहा कि किसान अपने खेत पर भी नजर रखें और दिल्ली पर भी। दिल्ली में लगाई गई एक-एक कील काढ कै आणी सै। खेत में काम करने वाले जो औजार हैं उन्हें तैयार रखें। दिल्ली से कभी भी कॉल आ सकती है जिसके लिए तैयार रहें। जब तक कानून वापिस नहीं होंगे तब तक घर वापसी नहीं होगी। वहीं महापंचायत में किसी राजनीतिक दल के कोई बड़े नेता नहीं पहुंचे। आयोजकों ने पहले ही घोषणा की थी कि किसी पार्टी के नेताओं को मंच पर स्थान और बोलने का मौका नहीं दिया जाएगा।

कर्मचारियों की लड़ाई भी लड़ेंगे : राकेश

राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार ये गलतफहमी न पाले कि किसान आंदोलन दो महीने में खत्म हो जाएगा। किसान फसल भी काटेगा और आंदोलन भी चलता रहेगा। सरकार यह ना भूले। उन्होंने कहा अगला टारगेट 40 लाख ट्रैक्टर इकट्‌ठे करेंगे। देशभर में जाएंगे। किसान फिर दिल्ली पहुंचेगा। अबकी बार हल क्रांति होगी। फसलों का फैसला किसान करेगा और सरकार के फैसले पंच करेंगे। कर्मचारियों की लड़ाई भी वे लड़ेंगे, क्योंकि उन्हें पूरी तनख्वाह नहीं मिल रही है।

खेती के न होकर खेती व्यापार कानून : चढ़ूनी

भाकियू के प्रदेश अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने कहा कि ये खेती के कानून न होकर खेती व्यापार कानून हैं। उन्होंने कहा कि जो 5 सौ करोड़ रुपए का डिफाल्टर है सरकार उसका तो नाम नहीं बताना चाहती लेकिन जो किसान सरकार की एक या दो लाख की देनदारी रखता है उसके सरकार बैंक में फोटो तक लगा देती है। उसकी इज्जत को खराब करने के लिए। इसको लेकर इज्जतदार किसान फांसी तक खा रहे हैं। उन्हाेंने कहा कि हमने शांति बनाकर रखनी है।

महापंचायत में ये किसान नेता पहुंचे

बालसमंद में किसान महापंचायत के संयोजक रणदीप लोचब, कुरड़ाराम नंबरदार, पूर्व सरपंच जगदीश लोरा, राजेश लोरा, बलराज बिजला, सुनील नेहरा, राजेश लोरा, संदीप धिरणवास, टेकराम, युद्धवीर सिंह, बीडीसी बलजीत मांजू, सतबीर गढ़वाल सहित अनेक किसान और मजदूर नेता मौजूद थे। वहीं खरक पूनिया गांव में महापंचायत में भाकियू के प्रधान रतन मान, खरक पूनिया के सरपंच प्रतिनिधि रणधीर सिंह धीरा, पंचग्रामी के प्रधान मास्टर कपूर सिंह, मनदीप पूनिया आदि ने संबोधित किया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें