पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सीबीएसई से मान्यता का पेंच फंसा:शिक्षा विभाग ने डीसी व डीडीपीओ को जमीन नाम करवाने के लिए लिखा पत्र, 11 संस्कृति मॉडल स्कूलों के पास नहीं खुद की जमीन

हिसार8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोहली स्थित मॉडल संस्कृति स्कूल का उद्घाटन करने पहुंचे थे मंत्री कंवरपाल गुर्जर। फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
कोहली स्थित मॉडल संस्कृति स्कूल का उद्घाटन करने पहुंचे थे मंत्री कंवरपाल गुर्जर। फाइल फोटो।

जिले में 11 सीनियर सेकंडरी स्कूलों को मॉडल संस्कृति स्कूल बनाने की प्रक्रिया लगभग पूरी की जा चुकी है। मगर इनमें सभी सुविधाओं के बावजूद सीबीएसई से मान्यता नहीं हो पा रही है। वजह, स्कूल के पास जमीन न होना है। इसके लिए विभाग ने जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी व डीसी को पत्र लिखा है। स्कूल की मान्यता के लिए 3 सर्टिफिकेट जरूरी हैं।

इनमें पीडब्ल्यूडी से स्ट्रकक्चर सेफ्टी सर्टिफिकेट, हेल्थ विभाग से हेल्थ एंड सैनेटरी कंडीशन सर्टिफिकेट व फायर डिपार्टमेंट से फायर सेफ्टी सर्टिफिकेट चाहिए। हेल्थ व पीडब्ल्यूडी डिपार्टमेंट से सर्टिफिकेट मिल चुका है। वहीं फायर सेफ्टी के लिए जमीन स्कूल या विभाग के नाम होनी अनिवार्य है। यह स्कूल ग्राम पंचायत, ट्रस्ट व दान में दी जमीनों पर बने हैं।

जिसके कारण फायर डिपार्टमेंट से यह सर्टिफिकेट जारी नहीं किया जा रहा है। विभाग ने इन जमीनों को विभाग व स्कूल के नाम करवाने के लिए ग्राम पंचायतों से सहमति करवा ली है। लेकिन विभाग के नाम यह जमीनें करवाने के लिए अभी भी शिक्षा विभाग को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। जिला शिक्षा अधिकारी अनिल शर्मा ने जमीन को जल्द ट्रांसफर करवाने के लिए डीसी डॉ. प्रियंका सोनी से आग्रह किया है।

इन दो स्कूलों का उद्घाटन कर चुके हैं नेता

जिले में पहले मॉडल संस्कृति स्कूल की शुरुआत खुद शिक्षा मंत्री कंवर पाल गुर्जर ने की थी, वहीं नलवा में सोमवार को डिप्टी स्पीकर रणबीर गंगवा ने शुभारंभ किया था। 11 में से 2 स्कूलों का उद्घाटन हो चुका है। वहीं अभी तक बाकी स्कूलों का उद्घाटन भी सुविधाएं पूर्ण होते ही किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...