पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Former Home Guard District Commander's Allegation Forced To Sign The Fake List Of Home Guard, CC PC Also Included

होमगार्ड भर्ती घोटाला:पूर्व होमगार्ड जिला कमांडर का आरोप- होमगार्ड की फर्जी सूची पर जबरदस्ती साइन कराए, सीसी-पीसी भी शामिल

हिसार13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सीसीटीवी में होटल में लाई लड़कियां व होम गार्ड विभाग के अधिकारी। - Dainik Bhaskar
सीसीटीवी में होटल में लाई लड़कियां व होम गार्ड विभाग के अधिकारी।
  • विनोद बोले- सीसी-पीसी ने सोनू को बोलकर मंगवाई थी शराब और लड़कियां
  • सीसीटीवी में दिखी लड़की व शराब की पेटी

होमगार्ड विभाग के 38 पदों पर भर्ती घोटाले में नया मोड़ सामने आया है। इस फर्जीवाड़े में संलिप्तता के आरोप लगने पर विभागीय कार्रवाई झेल रहे तत्कालीन होम गार्ड डिस्ट्रिक्ट कमांडर विनोद कुमार ने मामले से पल्ला झाड़ लिया है। उन्होंने अपने अधीनस्थ कर्मचारियों पर सारा ठीकरा फोड़ दिया है। बाेले कि वह फर्जीवाड़े के खिलाफ था, लेकिन दबाव बनाकर लिस्ट पर साइन करवाए थे। इसलिए विभाग के डीजी तक बात पहुंचाने के लिए उनके पीए तक को मामले से अवगत करवाया था। पर, वह भी अन्य के साथ मामले में शामिल मिला।

इस फर्जीवाड़े के विरुद्ध मैंने सीएम, गृहमंत्री और विभाग को पत्र लिखकर सच्चाई से अवगत करवाया है। 38 साल की सेवा कर चुका हूं। रिटायरमेंट के कगार पर हूं और गलत काम क्यों करूंगा। मैं खुद चाहता हूं कि इस मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। शराब व लड़कियां मंगवाने के मामले में विनोद कुमार का कहना है कि विभाग में डिस्ट्रिक्ट कमांडर कार्यरत रहने के दौरान 6 अगस्त को हिसार आया था।

मेरे अधीनस्थ कर्मचारी कंपनी कमांडर (सीसी) सुखबीर पानू, प्लाटून कमांडर (पीसी) इत्यादि ने होटल में ठहराने की व्यवस्था करवाई थी। वे मुझे जहां ठहराएंगे, मैं वहीं रहूंगा। इन्होंने ही सोनू को कहकर शराब व लड़कियां मंगवाई थी। मेरा कोई रोल नहीं है औ न ही लड़कियां मेरे कमरे में आई थीं। लड़कियां लाने के लिए सरकारी गाड़ी का प्रयोग पूर्व होमगार्ड सोनू व अन्य ने किया था।

मुझ पर लगाए सभी आरोप गलत हैं: पानू

तत्कालीन कंपनी कमांडर सुखबीर सिंह पानू का कहना है कि डिस्ट्रिक्ट कमांडर तान्या सिंह का आरोप गलत है कि मैंने 38 होमगार्ड या स्वयं सेवकों की लिस्ट जारी की थी। जो मस्टररोल में नाम दर्ज थे, उसे जेल वार्डर बजरंग लाल अपने घर लेकर गया था। उसने ही नए नाम दर्ज किए थे। मुझ पर गलत आरोप लगा रहे हैं। मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए।

भ्रष्टाचार उजागर करने को कोर्ट में केस करेंगे

एडवोकेट योगेश सिहाग का कहना है कि मेरे पास 8 आवेदक आए हैं, जिनके साथ गलत हुआ है। पीड़ित आवदेक सोमवार को कोर्ट में सिविल केस दायर करेंगे। मांग करेंगे कि डीजी के पुराने आदेशानुसार भर्ती हो, अवैध भर्ती को रद किया जाए, क्रिमिनल कंपलेंट भी पीड़ित पक्ष की तरफ से दी जाएगी। मामले में उच्च स्तरीय जांच कार्रवाई जाए।

जब मैंने जॉइन किया था तभी एक्शन ले लिया था। इसलिए भर्ती पर रोक लगी है। विभागीय कार्रवाई भी की गई है। कमेटी की जांच चल रही है। उसकी रिपोर्ट के आधार पर आगामी कार्रवाई होगी। दूध का दूध और पानी का पानी होगा, जो भी दोषी मिलेगा, बख्शा नहीं जाएगा। इसमें इलेक्ट्रॉनिक व डॉक्यूमेंट एविडेंस भी जांच में शामिल होंगे। चाहे होटल की फुटेज हो या कॉल रिकॉर्डिंग। - देशराज, डीजी, होमगार्ड

खबरें और भी हैं...