कोरोना काल में संभाल के नाम पर ठगी:भतीजों ने वृद्धा से धोखाधड़ी कर जमीन अपने नाम करवाई, खाते से 4 लाख की नकदी भी निकाली

हिसार10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पीड़िता खुजानी देवी, जिसके साथ उसके अपने भतीजों ने खेल खेला। - Dainik Bhaskar
पीड़िता खुजानी देवी, जिसके साथ उसके अपने भतीजों ने खेल खेला।

हरियाणा के हिसार जिले में कोरोना काल में वृद्धा की सेवा करने के नाम पर उसके साथ लाखों रुपए की धोखाधड़ी की गई है। धोखाधड़ी करने वाले वृद्धा के भतीजे, बहू और उनके रिश्तेदार हैं। गांव खेड़ी गगन निवासी 80 वर्षीय खुजानी की सेवा करने के नाम पर उसके भतीजे दिलबाग, जोगिंद्र, बहू पिंकी व अन्य रिश्तेदारों ने उसकी जमीन धोखे से अपने नाम करवा ली और वृद्धा के बैंक खाते में जमा 4 लाख रुपए भी निकाल लिए। जब वृद्धा की बेटियों को इस बारे में पता चला तो उन्होने अपनी मां की तरफ से खेड़ी गगन निवासी सुरेश उर्फ लीला, नियाणा निवासी मनजीत, दिलबाग, जोगेंद्र व पिंकी के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज करवाया है।

खुजानी के अनुसार, उसके बेटे की कई साल पहले मौत हो चुकी है और उसकी 4 बेटियां हैं, जो शादीशुदा हैं। अब वह अकेली अपने ससुराल खेड़ी गगन गांव में रहती है। फरवरी 2020 में उसके भतीजे दिलबाग और जोगेंद्र बीमारी फैलने का डर दिखाकर और सेवा करने की बात बोलकर उसे अपने साथ हांसी ले गए। लेकिन आरोपियों ने उसकी खेड़ी गगन व सिसाय गांव में स्थित जमीन धोखे से अपने नाम करवा ली। इसके अलावा उसके भतीजे की बहू पिंकी उसे बैंक में लेकर गई। उसे बताया गया कि खाते से वृद्धावस्था पेंशन निकलवानी है, जबकि बहू ने उसके खाते से 4 लाख रुपए की राशि निकलवा ली।

खुजानी के अनुसार, उसकी जमीन को किसी सतपाल के नाम पर बेचने के इकरारनामे पर अंगूठा लगवाया गया। लेकिन उसे इस बारे में जानकारी नहीं दी गई कि उसकी जमीन को बेचा जा रहा है। मार्च 2021 में खुजानी की बेटियां अपनी मां को अपने साथ जींद के इगराह लेकर गई। उसके बाद पूरी मामले की जांच की गई। एसडीएम द्वारा की गई जांच के आधार पर पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया है।