डोली से पहले ही उठी अर्थी:शादी का कार्ड देकर लौट रही युवती की हादसे में मौत

मंडी आदमपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मंगलवार शाम को कार और ट्रक की टक्कर में हुई थी दो की

एक पिता जहां अपनी बेटी को डोली में बैठाकर विदाई करने की तैयारी कर था, लेकिन उन्हें क्या पता था कि उसे डोली में बैठाकर विदा करने से पहले ही उसकी अर्थी के कंधा देना पड़ेगा। आदमपुर खंड के गांव ढाणी मोहब्बतपुर में शादी की खुशियां उस समय मातम में बदल गईं जब अपनी शादी का कार्ड देकर लौट रही युवती की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई। हादसे में एक अध्यापक की भी मृत्यु हो गई। युवती दिल्ली पुलिस में तैनात थी और युवक सिरसा जिले के गांव मिठ्ठी सुरेरा में अध्यापक कार्यरत था। बुधवार को दोनों के शवों का पोस्टमार्टम के बाद गांव में गमगीन माहौल में अंतिम संस्कार किया गया।
11 दिसंबर को होनी थी शादी, डोली से पहले ही उठी अर्थी

बताया जा रहा है कि दिल्ली पुलिस में तैनात गांव ढाणी मोहब्बतपुर वासी सुमन की 11 दिसम्बर को हिसार जिले के गांव हरीकोट वासी युवक के साथ शादी होनी थी। पूरा परिवार शादी की तैयारियों में लगा हुआ था। इसी बीच मंगलवार को सुमन अपनी शादी का कार्ड अपने किसी परिचित को देने के लिए गांव के ही सुनील के साथ गई थी। जब शाम को वे शादी का कार्ड देकर वापस लौट रहे थे तो ऐलनाबाद के गांव भूरटवाला के पास उनकी मारुति कार की ट्रक के साथ आमने-सामने की भिड़ंत हो गई और सुनील एवं सुमन की मौके पर ही मौत हो गई।

दो भाइयों की इकलौती बहन थी सुमन, सुनील के थे दो

सुमन अपने दो भाइयों की इकलौती बहन थी। सुमन के भाई सुनील की भी उसकी शादी के अगले दिन 12 दिसम्बर को शादी होनी थी। सुनील इरिगेशन विभाग में क्लर्क के पद पर कार्यरत है और छोटा भाई कुलदीप पढ़ाई कर रहा है। वहीं, मृतक सुनील दो भाई-भाई थे। उसका बड़ा राजेंद्र खेती में अपने पिता का हाथ बंटाता है। सड़क दुर्घटना में युवक-युवती की मौत की सूचना मिलने पर पूरे गांव में सन्नाटा पसरा गया। हर कोई व्यक्ति पीड़ित परिवार को ढांढस बंधाने के लिए उनके घर पहुंच रहे थे। मृतक युवक-युवती का बुधवार को पुलिस ने सिरसा के नागरिक अस्पताल में पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सौंप दिए।

खबरें और भी हैं...