पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • HAU's Horticulture Department To Prepare Plants In Pro Trays With The Help Of Machines; Time, Labor And Expenses Will Also Be Saved

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आधुनिक तकनीक:मशीनों की सहायता से प्रो ट्रे में पौधे तैयार करेगा एचएयू का बागवानी विभाग; समय, श्रम और खर्च भी बचेगा

हिसार8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
एचएयू के कुलपति प्रोफेसर समर सिंह बागवानी विभाग में आई मशीन का अवलोकन करते हुए व वैज्ञानिक मशीन की कार्यप्रणाली समझाते हुए।
  • एचएयू के वीसी प्रो. समर सिंह का दावा- इस मशीन के आने से किसानों को बेहतर गुणवत्ता के पौधे मिल सकेंगे
  • विभाग ने एक मशीन मंगवाई, जो बीज बोने से लेकर खाद व सिंचाई तक के सभी काम तेजी से करेगी

चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के बागवानी विभाग में अब वैज्ञानिक ऑटोमेटिक मशीन की सहायता से प्रो ट्रे में पौधे तैयार करेंगे। इसके लिए विभाग ने एक ऐसी मशीन मंगवाई है, जो बीज को बोने से लेकर खाद व सिंचाई तक के सभी काम बहुत तेज गति से और आधुनिक तकनीक से करेगी।

इससे समय व पैसे की बचत हाेगी। लेबर की नाममात्र ही जरूरत पड़ेगी। इस मशीन को राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के तहत स्थापित किया है। एचएयू के कुलपति प्रो. समर सिंह ने कहा कि इस मशीन के आने से किसानों को स्वस्थ व बेहतर गुणवत्ता के पौधे मिल सकेंगे। साथ ही एचएयू किसानों की जरूरत के अनुसार पौधे तैयार कर सकेगा और किसानों को अधिक मात्रा में पौधे मिल सकेंगे।

जानिए बीज, पानी और प्राे ट्रे बनाने की कैसे चलती है मशीनी प्रक्रिया
एचएयू के अनुसंधान निदेशक डॉ. एसके सहरावत ने बताया कि इस मशीन में सुविधानुसार प्रो ट्रे लगाई जाती हैं। उसके बाद मशीन की सहायता से ही इस प्रो ट्रे में नारियल का बुरादा, अंकुरण के लिए बीज व सिंचाई के लिए पानी डाला जाता है। इसके बाद मशीन जरूरत के हिसाब से प्रो ट्रे में बीज डालती है। एक प्रो ट्रे में 55 से 105 तक बीज डालकर पौधे तैयार किए जाते हैं। फिर प्रो ट्रे को पॉली हाउस में रखा जाता है और पौधे तैयार होने तक उनकी वहीं देखभाल की जाती है।

100% होगा बीजों का अंकुरण
फलदार पौधों, फूलों व सब्जियों की पौध तैयार करने के लिए जो बीज बोया जाता है वह बहुत महंगा होता है। साथ ही मजदूरों की सहायता से जमीन में तैयार करने में समय अधिक लगने के साथ-साथ उनके सौ प्रतिशत अंकुरण या जमाव की भी संभावना कम होती है।

मशीन के जरिए एक घंटे में 300 से 700 प्राे ट्रे भरी जा सकती हैं
डॉ. राजपाल दलाल ने कहा पहले सारा काम हाथों से होता था, जिसमें अधिक समय व पैसे लगते थे। एक मजदूर दिन में 60 से 65 तक ही प्रो ट्रे भरते थे जबकि इस मशीन की सहायता से एक घंटे में 300 से 700 तक है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां आपके स्वाभिमान और आत्म बल को बढ़ाने में भरपूर योगदान दे रहे हैं। काम के प्रति समर्पण आपको नई उपलब्धियां हासिल करवाएगा। तथा कर्म और पुरुषार्थ के माध्यम से आप बेहतरीन सफलता...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...

  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser