हिसार मेयर ओल्ड सिटी में डेवलपमेंट चार्ज के खिलाफ:मीटिंग में उठाया ऑब्जेक्शन, दिखाया पत्र; कमिश्नर के ME को क्लेरिफिकेशन के निर्देश

हिसार3 महीने पहले
फाइनेंशियल कमेटी की मीटिंग में रिव्य करते हुए मेयर गौतम सरदाना और नगर निगम कमिश्नर प्रदीप दहिया।

हिसार नगर निगम द्वारा शहर में विकास कार्यों पर खर्च किए गए पैसे का हिसाब किताब फाइनेंशियल कमेटी में रखा गया। यह मीटिंग मेयर गौतम सरदाना और निगम कमिश्नर प्रदीप दहिया की अध्यक्षता में हुई। हाउस की मीटिंग में सेक्शन ऑफिसर ने एक अप्रैल 2022 से लेकर 31 अक्टूबर 2022 तक के आय और खर्च का ब्योरा रखा गया।

मीटिंग की शुरुआत में सेक्शन ऑफिसर ने बताया कि निगम की इनकम का एस्टीमेट बजट 88 करोड़ 16 लाख 10 हजार रुपए था, निगम को 33 करोड़ 25 लाख 61 हजार 375 रुपए ही अर्जित किए। मेयर ने एजेंडा देखते हुए कहा कि निगम ने प्रॉपर्टी टैक्स के 22 करोड़ वसूलने थे, परंतु हम 4 करोड़ 50 लाख 68 हजार रुपए की वसूल पाए है। तब डीएमसी वीरेंद्र सहारण ने कहा कि हम डाटा से सही कर रहे हैं। जिस कारण लोगों को डिमांड नोटिस नहीं भेजे जा सके। इसलिए या तो ऑन लाइन बिल निकालकर भेजे।

लोगों को जल्दी से बिल भेजे; मेयर

तब मेयर ने कहा कि लोगों को जल्दी से जल्दी प्रॉपर्टी टैक्स के बिल भेजे, ताकि उन्हें सरकार द्वारा दी जाने वाली छूट का लाभ मिलें। इसलिए 50 हजार से लेकर 10 लाख रुपये तक की प्रॉपर्टी टैक्स के लिए अलग अलग स्लैब बनाए। तब पार्षद अनिल जैन ने कहा कि प्रॉपर्टी टैक्स के डाटा को जल्दी से दुरुस्त किया जाए। क्योंकि प्रॉपर्टी टैक्स भरना महाभारत के समान हो गया है। हम शहर के गड्‌ढे तो भरवा सकते हैं, परंतु प्रॉपर्टी टैक्स भरवाने की किसी को हामी नहीं भरते।

1975 से पहले की कॉलोनियां से डेवलपमेंट चार्ज का उठा मुद्दा

मीटिंग के दौरान मेयर गौतम सरदाना ने अधिकारियों के समक्ष पुराने शहर के निवासियों से भी डेवलपमेंट चार्ज वसूलने का मुद्दा उठाया। मेयर ने कहा कि साल 2006 में एक पत्र आया था कि 1975 से पहले की कॉलोनियों से डेवल्पमेंट चार्ज नहीं वसूलने। परंतु फिर भी वसूले जा रहे हैं। इस पर निगम कमिश्नर प्रदीप दहिया ने एमई से इस संबंध में जानकारी मांगी।

नगर परिषद की एमई सुनील लांबा ने कहा कि हमने उस पत्र की सत्यता को लेकर अर्बन लोकल बॉडी के अधिकारियों से बात की थी, परंतु उन्होंने मौखिक तौर पर कहा कि ऐसा नहीं है। एमई अपनी बात के पुख्ता दावे कर रहे थे। तब मेयर और कमिश्नर ने उनसे पूछा कि क्या आपने लिखित में लिया। इस पर एमई ने इंकार कर दिया। कमिश्नर ने मीटिंग में एमई की दावों पर आपत्ति जताई।

कमिश्नर प्रदीप दहिया और मेयर मीटिंग में चर्चा करते हुए
कमिश्नर प्रदीप दहिया और मेयर मीटिंग में चर्चा करते हुए

तब मेयर ने अपने मोबाइल से वह लेटर दिखाया और कहा कि यदि इसे लागू कर दोंगे तो 1975 से पहले पुराने शहर के लोगों को तो राहत मिलेगी। प्रॉपर्टी टैक्स की जो 1400 फाइलें पेंडिंग है, उनमें से 25 से 30 प्रतिशत काम पूरा हो जाएगा। तब कमिश्नर प्रदीप दहिया ने कहा कि डीएमसी वीरेंद्र सहारण और एमई को इस संबंध में अर्बन लोकल बॉडी डिपार्टमेंट से सपंर्क करने के निर्देश दिए।

एनडीसी के लिए निगम में सोमवार से फ्री सर्विस

मीटिंग में मेयर गौतम सरदाना ने एनडीसी को लेकर आने वाली शिकायतों का मुद्दा भी रखा। मेयर ने कहा कि लोगों के लिए निगम कार्यालय में एनडीसी एप्लाई के लिए कंप्यूटर आप्रेटरों को बैठाया जाए। जिस पर सभी ने सहमति दी। इसलिए नगर निगम हिसार में अब सोमवार से कंप्यूटर आप्रेटर बैठेगा जो कि एनडीसी के लिए उपभोक्ताओं को फ्री सर्विस देगा। उपभोक्ताओं के ऑन लाइन आवेदन को कंप्यूटर आप्रेटर ही फिल करेगा। शहर वासियों के लिए यह राहत भरी खबर है। क्योंकि एनडीसी के लिए निगम में काफी परेशान होना पड़ता था। जानकारी के अभाव में वे शिकायतें लेकर इधर- उधर घूमते रहते थे।

मीटिंग में बैठे हुए कमेटी के सदस्य
मीटिंग में बैठे हुए कमेटी के सदस्य

ई ऑक्शन में बेचेंगे प्लांट

निगम की मीटिंग में 806 दुकानों की ई ऑक्शन करने का फैसला लिया गया। पहले निगम की दुकानों की बोली लगाई जाती थी। परंतु अब ई ऑक्शन से दुकानें बेची जाएगी। इसके अतिरिक्त डोर टू डोर कलेक्शन, एम टैक्स की वसूली और शहर में बंद पड़े स्लॉटर हाउस को चलाने पर चर्चा की। जिस पर कमिश्नर प्रदीप दहिया ने स्लॉटर हाउस को जल्द चलाने की बात कही। मीटिंग में चीफ इंजीनियर रामजी लाल, अतिरिक्त निगम आयुक्त प्रदीप हुड्‌डा, पार्षद अनिल जैन, प्रीतम सैनी, मनोनीत पार्षद कैप्टन नरेंद्र शर्मा, मनोनीत पार्षद सतीश, जयप्रकाश उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...