हरियाणा पुलिस भर्ती का रेट 11 लाख रुपए:इंस्टाग्राम पर डाली पोस्ट, हिसार पुलिस ने 2 युवक दबोचे, कर्ज चुकाने के लिए बनाया प्लान, पहले 30 हजार और कोई खुद पास हो जाता तो लेते थे 10.70 लाख

हिसार2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
उकलाना थाना पुलिस ने भर्ती के नाम पर पैसे मांगने वाले 2 युवकों को पकड़ा है। - Dainik Bhaskar
उकलाना थाना पुलिस ने भर्ती के नाम पर पैसे मांगने वाले 2 युवकों को पकड़ा है।

हरियाणा पुलिस भर्ती में पेपर लीक फर्जीवाड़े में हिसार जिले का नाम भी जुड़ गया है। हिसार पुलिस ने दो आरोपियों को दबोचा है। आरोपी भर्ती के नाम पर बड़ा फ्रॉड करने की तैयारी में थे। पकड़े गए आरोपियों की पहचान उकलाना के साहू गांव के अंकित सोढ़ी और भिवानी के चांग गांव के संजय दहिया के रूप में हुई है। अंकित सोढ़ी ने हरियाणा पुलिस का पेपर पास करवाने के बारे में इंस्टाग्राम पर पोस्ट तक डाली थी। आरोपियों ने सारा प्लान कर्ज चुकाने के लिए बनाया था। उनसे संपर्क करने वाले से पहले ने 30 हजार मांगते थे और कोई खुद ही परीक्षा पास कर जाता तो उससे बाकी बची रकम लेने का प्लान था।

अंकित ने पोस्ट में लिखा कि हरियाणा पुलिस भर्ती का पेपर पास करवाने के लिए सम्पर्क करें, खर्चा 11 लाख रुपए। उसी पोस्ट को देखकर हिसार आईजी की टीम सक्रिय हुई और जांच कर 2 आरोपियों को दबोच लिया। आरोपी 30 हजार रुपए लेकर फर्जी फिंगरप्रिंट बनाकर भर्ती में फर्जीवाड़ा करने की तैयारी में थे। दोनों आरोपियों को कोर्ट में पेश करके 2 दिन के रिमांड पर लिया गया है।

कर्जा उतारने के लिए तैयार किया था प्लान

उकलाना थाना प्रभारी इंस्पेक्टर रोहताश ने बताया कि संजय दहिया अंकित सोढ़ी की बुआ का लड़का है। इन दोनों ने व साहू गांव के ही सतनाम व अमित कुमार ने भर्ती के नाम पर पैसा कमाकर कर्जा उतारने के लिए सारा प्लान तैयार किया था। अंकित ने 11 लाख में पुलिस भर्ती करवाने की पोस्ट डाली थी और खुद का मोबाइल नंबर भी दिया हुआ था। जांच में सामने आया कि जब इनसे कोई फोन पर संपर्क करता तो वे भर्ती का रेट 11 लाख बताते और पेपर पास करवाने के नाम पर 30 हजार रुपए एडवांस ले लेते।

पेमेंट लेने के बाद मांगते थे अंगूठे का प्रिंट, खुद पास होने वालों से 10.70 लाख ऐंठने का था प्लान

पैसे देने वाले को झांसा देने के लिए उससे कहते थे कि अपने अंगूठे का प्रिंट कागज पर दे जाओ। पेपर देने के बाद उसकी शीट बदलकर उसे पेपर में पास करवा दिया जाएगा। आरोपी इसी तरह से भर्ती के नाम पर पैसे ऐंठ रहे थे। इनका प्लान था कि लोग जो पैसे दे रहे हैं, उससे कर्जा चुकता कर दिया जाए और जब रिजल्ट आने पर कोई खुद से पास होकर भर्ती हो जाता है तो उससे बाकी के 10.70 लाख रुपए ऐंठ लिए जाएंगे। फर्जीवाड़े में शामिल अन्य आरोपियों के बारे में जानकारी के लिए पुलिस जांच में जुटी हुई है।

खबरें और भी हैं...