पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • History sheeter Shikhandi Was Murdered With Knives In Patel Nagar On May 31, There Was A Quarrel, The Police Is Investigating By Linking It

लॉकडाउन में क्राइम:पटेल नगर में हिस्ट्रीशीटर शिखंडी की चाकुओं से गोद कर हत्या 31 मई को हुआ था झगड़ा, पुलिस इससे जोड़कर कर रही जांच

हिसार8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हिसार| पटेल नगर में युवक पर चाकू से हमले की सूचना पर पहुंची पुलिस जांच करती हुई। सीन ऑफ क्राइम टीम ने ब्लड सैंपल सहित अन्य साक्ष्य जुटाए। वारदात के बाद पटेल नगर मार्केट में दहशत फैल गई। कुछ समय के लिए जो दुकानें खुली थी वह बंद हो गईं। - Dainik Bhaskar
हिसार| पटेल नगर में युवक पर चाकू से हमले की सूचना पर पहुंची पुलिस जांच करती हुई। सीन ऑफ क्राइम टीम ने ब्लड सैंपल सहित अन्य साक्ष्य जुटाए। वारदात के बाद पटेल नगर मार्केट में दहशत फैल गई। कुछ समय के लिए जो दुकानें खुली थी वह बंद हो गईं।
  • शाम करीब 8 बजे सरेआम वारदात के बाद मार्केट में दहशत, कुछ समय के लिए दुकानें बंद कर गए दुकानदार
  • बेखौफ बदमाश- एक व्यापारी ने बीच-बचाव की कोशिश की तो उसे धमकी दी, वारदात के बाद कम्युनिटी सेंटर की तरफ भागे हत्यारोपी

पटेल नगर में रविवार शाम करीब आठ बजे पुरानी रंजिश के चलते हिस्ट्रीशीटर 32 वर्षीय अमित भुटानी उर्फ शिखंडी की बदमाशों ने दौड़ा-दौड़ा पीटकर और चाकुओं से गोदकर हत्या की कर दी। वारदात के बाद दाे हमलावर फरार हो गए। वारदात के बाद क्षेत्र में दहशत का माहौल है। सूचना पर सिविल लाइन थाना पुलिस सहित स्पेशल टीमों ने पहुंचकर जांच की। दुकानों के बाहर लगे सीसीटीवी फुटेज जुटाने की कोशिश की। लोगों से पूछताछ के बाद पुलिस 7 टीमें कम्युनिटी सेंटर की तरफ से भागे हत्यारोपियों की धरपकड़ में जुट गई।

अमित के खिलाफ मारपीट व अवैध शराब तस्करी सहित 17 केस दर्ज हैं। बता दें कि 31 मई की रात को पटेल नगर वासी विजय और उसके दोस्तों के साथ झगड़ा हुआ था। इसमें मुकदमा दर्ज हुआ था, जिसमें अमित उर्फ शिखंड़ी, अनूप, सोनी और रजत हुड्डा नामजद थे। शिखंडी के साथ हुई वारदात को पुलिस विजय के साथ हुए झगड़े से जोड़कर भी जांच कर रही है।

हिसार| पटेल नगर में अमित भुटानी उर्फ शिखंडी की हत्या के बाद जांच करने वारदात स्थल पर पहुंचे डीआईजी बलवान सिंह राणा मौजूद पुलिस अधिकारियों से जानकारी लेते हुए।
हिसार| पटेल नगर में अमित भुटानी उर्फ शिखंडी की हत्या के बाद जांच करने वारदात स्थल पर पहुंचे डीआईजी बलवान सिंह राणा मौजूद पुलिस अधिकारियों से जानकारी लेते हुए।

मैंने कहा बेटा मत मारो - हमलावर बोले अंकल हट जा वरना तुझे भी मार देंगे : प्रत्यक्षदर्शी

पटेल नगर के व्यापारी सुभाष ने बताया कि मेरी आंखों के सामने वारदात हुई है। वह लड़के शिखंडी को दौड़ा-दौड़ाकर पीट रहे थे। वह उनसे बचकर भाग रहा था लेकिन सरेआम उसे काबू करके चाकू से गोदने लगे। मैंने उन्हें कहा कि बेटा मत मारो लेकिन उन्होंने मेरी नहीं सुनी। उसे पत्थर और कुर्सी भी मारी।

बोले कि अंकल पीछे हट जा वरना तूझे भी मार देंगे। उन युवकों ने देखा कि वह मर चुका है, तब वहां से कम्युनिटी सेंटर की तरफ फरार हुए थे। मेरा और लोग साथ देते तो शायद उसे मरने से बचा सकते थे और युवकों को पकड़ सकते थे। पर, सामने मौत देखकर कौन आगे आता।

जानिए- इन आरोपों के तहत दर्ज हुआ था मुकदमा

पुलिस के अनुसार पटेल नगर वासी विजय की शिकायत पर धारा 323, 325, 34 के तहत अमित उर्फ शिखंडी सहित चार पर केस दर्ज किया गया था। पार्षद महेंद्र जुनेजा के क्लीनिक के पास विजय के साथ झगड़ा हुआ था। पार्षद ने बीच-बचाव तक किया था। विजय ने आरोप लगाया था कि रात करीब 9.30 बजे जुनेजा क्लीनिक के पास खड़े होकर दोस्तों से बात कर रहा था। तब शिखंडी, अनूप, सोनी व रजत हुड्डा आए थे।

शिखंडी ने मुझे कहा कि तूने मुझे कुछ दिन पहले मुझे गालियां दी थीं। उसका आज तेरे को मजा चखाता हूं। इतना कहकर शिखंडी ने अपने हाथ में ली हुई लाठी मेरे सिर में मारी थी। अनूप व सोनी ने अपने हाथों में लिए हुए बिंडे मेरे पैर, कमर व हाथों पर मारे थे।

अमित उर्फ शिखंडी पर 17 मामले दर्ज : पीएलए पुलिस

पीएलए चौकी पुलिस के अनुसार मृतक अमित उर्फ शिखंडी का क्रिमिनल रिकॉर्ड है। इसके विरुद्ध कुल 17 मुकदमे दर्ज हैं। अवैध शराब, लड़ाई झगड़े सहित अन्य आरोपों के तहत केस हैं। हाल ही में मारपीट का मुकदमा दर्ज हुआ था। अंदेशा है कि पुरानी रंजिश के तहत वारदात हुई है। वहीं सिविल लाइन थाना एसएचओ बलवंत ने बताया कि मृतक के भाई अंकुश के बयान पर कुछ नामजद सहित अन्य पर हत्या का केस दर्ज किया है।

पहले एमएलआर कटवाने को कहा, इलाज करते तो बच जाती जान : ज्ञानचंद

मृतक के चाचा ज्ञानचंद का कहना है कि उपचार के लिए निजी अस्पताल में लेकर गए थे, जहां उपचार से पहले सिविल अस्पताल से एमएलआर कटवाने को कहा गया। तब शिखंडी को सिविल अस्पताल गए थे। वहां से एमएलआर कटवाकर वापस निजी अस्पताल पहुंचे तो डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया था। आरोप है कि अगर समय रहते उपचार मिल जाता तो जान बच सकती थी। उसकी 3 बेटियां हैं।

खबरें और भी हैं...