फर्जीवाड़ा:हिसार, जयपुर व मुंबई में गिरोह ने मजदूर की आईडी पर फाइनेंस करा दिए 3 वाहन

हिसार5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो।
  • अब रिकवरी के लिए परेशान कर रही कंपनी, कोर्ट से भी मिले समन

सातरोड कलां गांव वासी मजदूर कृष्ण कुमार ने फर्जीवाड़े की शिकायत आईजी ऑफिस में की है। उसका कहना है कि दिनभर में 400 रुपए कमाता है, उसके पास ड्राइविंग लाइसेंस तक नहीं है, मगर उसके नाम पर फाइनेंस हुए तीन वाहन सड़कों पर दौड़ रहे हैं। फाइनेंस कंपनियों का करीब 21 लाख रुपए ऋण बकाया है। उसके नाम 2 कैंटर हैं। एक कैंटर के ऋण में गारंटर है। हिसार, मुंबई व जयपुर से ऋण वसूली के लिए फाइनेंस कंपनी द्वारा आर्बिट्रेटर से अवाॅर्ड पास करवा लिया और फिर हिसार कोर्ट में एग्जीक्यूशन दायर कर दी।

इसके चलते उसे समन जारी कर दिया। अब वह पुलिस अधिकारियों के चक्कर काट रहा है। कृष्ण कुमार का कहना है कि मेरे व मेरे पिता रामस्वरूप की आईडी का दुरुपयोग हुआ है। मामले में आईजी से गुहार लगाई है। उन्होंने जांच करवाने के लिए कहा है। कृष्ण कुमार ने बताया कि वह सैनिक छावनी बस स्टैंड के पास चाय की दुकान कर गुजारा करता था। लॉकडाउन में दुकान बंद करनी पड़ी। अब मजदूर करता है।

लॉकडाउन-1 से पहले मार्च, 2020 को उसको रजिस्टर्ड पोस्ट से हिसार कोर्ट का समन मिला था। समन की तारीख पर कोर्ट में पेश हो गया, लेकिन किसी ने कुछ नहीं बताया। फिर लॉकडाउन लग गया। इसी दौरान दो और कंपनियों के आर्बिट्रेशन अवॉर्ड भी रजिस्टर्ड पोस्ट से मिले तो किसी अधिवक्ता से मुलाकात की। तब पता चला कि अज्ञात व्यक्तियों ने उसके नाम से ऋण लेकर वाहन खरीदे हैं। अब फाइनेंस कंपनी ने उन ऋण की वसूली के लिए कोर्ट में केस दायर किया है।

खबरें और भी हैं...