पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ज्यादा सतर्कता बरतने की जरूरत:नवंबर में सेहत पर भारी पड़ा कोरोना का कहर, 30 दिन में 102 मौतें और 5747 रोगी मिले

हिसार7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सर्द मौसम में रखें स्वास्थ्य का और अधिक ध्यान - पहली बार रिकवरी रेट 89.22 फीसद पहुंचा, विभाग का ज्यादा सैंपलिंग पर फोकस

कोरोना काल में सेहत पर सबसे भारी नवंबर माह पड़ा। महज 30 दिन में रिकॉर्ड तोड़ 102 संक्रमितों की मौत हुई और 5747 रोगी मिले। यह अभी तक का सबसे बड़ा आंकड़ा है, जोकि महामारी की भयावहता को दर्शाने के लिए काफी है। इसके बावजूद नागरिक कोरोना को हल्के में लेकर बचाव के उपाय नहीं अपना रहे हैं।

समय पर कोविड जांच करवाने और अस्पताल में दाखिल होने से बचने के चक्कर में खुद से दवाइयाें का सेवन करके शरीर को कष्ट पहुंचा रहे हैं। जब हालत बिगड़ जाती है तब जिंदगी बचने की संभावना कम रह जाती है।

बता दें कि इस माह जिस तेजी से पाॅजिटिविटी रेट बढ़ा है उतना बीते किसी भी माह में यह स्थिति नहीं थी। ऐसे में वक्त रहते नहीं संभले तो कोरोना का कहर कई जिंदगियों को छीन लेगा। इस सर्द मौसम में पहले से गंभीर बीमारियों से ग्रस्त रोगियों व बुजुर्गों पर संक्रमण का काफी घातक असर देखने को मिल रहा है।

संक्रमित वेंटिलेटर्स पर जाने के बावजूद कोरोना को नहीं हरा पा रहे हैं। इसलिए घर से बाहर निकलते समय मास्क जरूर पहनें। सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करते हुए भीड़ से दूरी बनाएं। हाथों को धोने से संक्रमण को नष्ट करना और इससे बचना संभव है। अच्छी बात यह कि पहली बार रिकवरी रेट 89.22 तक पहुंच गया है।

खबरें और भी हैं...