मुख्यालय कर रहा है लाेगाें काे गुमराह:स्कीम पाेर्टल पर अपडेट हाेने में लग जाएंगे महीनों

हिसार21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मुख्यालय ने लिखा, जब तक स्कीम किसी अलाॅटी के न राेके जाएं बिल्डिंग प्लान और बिजली पानी कनेक्शन

इनहांसमेंट न भरने वालाें काे एचएसवीपी एक अाैर अाॅफर दे सकता है। मुख्यालय ने इसकाे लेकर सभी जाेनल अाॅफिसर व एस्टेट अाॅफिसर काे लिखा है कि जाे अलाॅटी लास्ट एंड फाइनल सेटलमेंट स्कीम में इनहांसमेंट नहीं भर पाया है। उनके लिए जल्द ही काेई स्कीम अा सकती है। जब तक काेई नई या अंतिम स्कीम न अाए तब तक अलाॅटियाें के नक्शा यानी बिल्डिंग प्लान, बिजली, पानी व सीवरेज कनेक्शन, टीपी सहित अन्य काेई काम न राेके जाएं।
अादेशाें के अनुसार ये जिनके ड्यूज बकाया वे ले पाएंगे ये सुविधाएं भी-बिल्डिंग प्लान, सीवरेज पानी कनेक्शन, बिजली कनेक्शन, माेर्गेज व डीमाेर्गेट, पजेशन, सेल एवं परचेज और अाॅक्यूपेशन सर्टिफिकेट।
सेक्टर 14 निवासी प्रवीन सिंगल का कहना है कि मुख्यालय यानी एचएसवीपी सेक्टरवासियाें काे गुमराह कर रहा है। उन्हाेंने कहा कि इस तरह की जाे भी स्कीम अाती है महीनाें तक वह पाेर्टल पर अपडेट ही नहीं हाेती। लाेग चक्कर काटते रहते हैं। स्थानीय अधिकारियाें काे बहना भी मिल जाता है कि पाेर्टल पर काेई अपडेट नहीं है। एेसे में लाेगाें के जाे काम पहले रूके हुए थे वाे एेसे ही रुके रहेंगे।
अारडब्लूए बाेली, एचएसवीपी कर रही ड्रामे :

सेक्टर 16-17 अारडब्लूए प्रधान जितेंद्र श्याेराण का कहना है कि इनहांसमेंट मामले में काेर्ट में केस चल रहे हैं। एचएसवीपी कंटेंप्ट अाॅफ काेर्ट न बने इसके बचाव के चक्कर में इस तरह के ड्रामे कर रही है। लाेग कार्यालय में एेसे ही चक्कर काटते रहते हैं। अधिकारी बिना पाेर्टल पर अपडेट हुए बिना ये कर ही नहीं पाने का बात कहते रहते हैं। श्याेरण ने कहा कि अभी भी 10 प्रतिशत के अासपास लाेग एेसे हैं जाे इनहांसमेंट नहीं भर पाए हैं। इसके पीछे भी एचएसवीपी ही जिम्मेदार है। इन अलाॅटियाें की हनहांसमेंट व ड्यूज इत्यादि की कैलकुलेशनश गलत की गई है।

खबरें और भी हैं...