कुलदीप-रेणुका का 3 दिवसीय आदमपुर दौरा:गामीणों की समस्याएं सुनेंगे; जन्माष्टमी कार्यक्रम में शामिल होंगे; भूपेंद्र-दीपेंद्र पहले ही आकर जा चुके

हिसार3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद कुलदीप बिश्नोई ने चुनावी तैयारियां शुरू कर दी हैं। कुलदीप बिश्नोई और उनकी पत्नी रेणुका बिश्नोई 3 दिवसीय आदमपुर के दौरे पर जा रहे हैं। यह दौरा 18 अगस्त से 20 अगस्त तक रहेगा।

कुलदीप के समर्थक रणधीर पनिहार ने बताया कि कि अगले 3 दिन कुलदीप हलके के विभिन्न गांवों में जाकर लोगों की समस्याएं सुनेंगे। 19 अगस्त को कुलदीप बिश्नोई हिसार स्थित बिश्नोई मंदिर में जन्माष्टमी महोत्सव में भी शिरकत करेंगे। बता दें कि कुलदीप 3 अगस्त को आदमपुर विधानसभा से इस्तीफा देने से पहले 2 अगस्त को आदमपुर गए थे और कार्यकर्ताओं से राय मशविरा लिया था।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मुलाकात करते हुए कुलदीप बिश्नोई
मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मुलाकात करते हुए कुलदीप बिश्नोई

कुलदीप के कांग्रेस छोड़ने के बाद राजनीतिक घटनाक्रम

आदमपुर विधानसभा सीट से कुलदीप बिश्नोई ने 3 अगस्त को इस्तीफा दिया। पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्‌डा और उसके बेटे दीपेंद्र ने कुलदीप को आदमपुर में घेरने के लिए राजनीतिक गतिविधियां तेज कर दीं। दोनों बाप-बेटा पिछले 10 दिनों में दो बार हिसार में दस्तक दे चुके हैं, जबकि कुलदीप बिश्नोई इस्तीफा देने के बाद पिछले 10 दिनों में 1 बार भी आदमपुर नहीं आए।

कुलदीप बिश्नोई 2 अगस्त को आदमपुर आकर वर्करों से मीटिंग करके 3 अगस्त को चंडीगढ़ चले गए। 4 अगस्त को दिल्ली में भाजपा में शामिल हो गए। उसी दिन राज्यसभा सांसद दीपेंद्र हुड्‌डा ने कुलदीप के विरोधी और पूर्व मंत्री संपत सिंह को कांग्रेस महासचिव से मिलाया। इसके बाद 8 अगस्त को संपत सिंह कांग्रेस में शामिल हो गए। संपत ने कांग्रेस छोड़ने की वजह कुलदीप बिश्नोई को बताया था।

12 अगस्त को आदमपुर में आयोजित आजादी गौरव यात्रा में सांसद दीपेंद्र हुड्‌डा पहुंचे और क्षेत्र में यात्रा निकाली। 14 अगस्त को भूपेंद्र हुड्‌डा का हिसार में दौरा था।

आदमपुर पर रहा भजनलाल परिवार का वर्चस्व

आदमपुर विधानसभा से अब तक भजन लाल परिवार ही चुनाव लड़कर जीतता आ रहा है। इसी सीट पर अब भजनलाल की तीसरी पीढ़ी चुनावी मैदान में उतरने जा रही है। वर्ष 1968 में भजन लाल, 1972 में भजनलाल, 1977 में भजनलाल, 1982 में भजन लाल, 1987 में भजन लाल की पत्नी जसमा देवी, 1990 में भजन लाल, 1996 में भजन लाल, 2005 में भजन लाल, 2009 में रेणुका बिश्नोई, 2014 और 2019 में कुलदीप बिश्नोई चुनाव जीते।