हिसार का शराब कारोबारी हत्याकांड:दोस्त को दुश्मन बनाकर लिया रंजिश का बदला, चमारखेड़ा का मनदीप है मर्डर का असली मास्टरमाइंड

हिसार4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक रामफल उर्फ बच्ची, जिसकी रंजिशन हत्या कर दी गई। - Dainik Bhaskar
मृतक रामफल उर्फ बच्ची, जिसकी रंजिशन हत्या कर दी गई।

हरियाणा के हिसार जिले के थाना उकलाना की पुलिस टीम ने फरीदपुर निवासी रामफल उर्फ बच्ची की हत्याकांड का पूरा पटाक्षेप हो गया है। हत्याकांड की साजिश चमारखेड़ा निवासी मनदीप उर्फ धोला ने रची थी। मनदीप ने अपनी पुरानी रंजिश का बदला लेने के लिए रामफल के दोस्त व पार्टनर रहे अमित उर्फ मीता और अंकित को अपने साथ मिलाया और वारदात को अंजाम दिया। गिरफ्तार तीनों आरोपियों से पुलिस ने वह बोलेनो कार बरामद की है, जिसमें बैठकर हत्या करने के बाद तीनों आरोपी फरार हुए थे।

घटना के समय बरामद शव
घटना के समय बरामद शव

कई दिनों से थी हत्या की तैयारी

उकलाना थाना प्रभारी एसआई विनोद कुमार ने बताया कि मनदीप उर्फ धोला की रामफल से पुरानी रंजिश थी। मनदीप ने ही रामफल की हत्या करने की पूरी प्लानिंग की थी। रामफल कई दिनों से मनदीप के काबू में नहीं आ रहा था। इसके लिए मनदीप ने रामफल के पुरानी साथी रहे अमित को इसके लिए तैयार किया। रामफल अमित पर विश्वास करता था और इसी कारण 30 दिसंबर को उसके बुलाने पर अमित के साथ चला आया था।

मनदीप ने अमित को भरोसा दिया था कि रामफल की मौत के बाद शराब के पूरे कारोबार पर उनका कब्जा हो जाएगा। अमित की रामफल के साथ खटपट थी, लेकिन वह हत्या की बात से सहमत नहीं था। बाद में मनदीप द्वारा लालच दिए जाने पर वह तैयार हो गया था। रामफल को खेतों में बुलाने के बाद मनदीप के इशारे पर अंकित ने रामफल के सिर में गोली मारी थी। हत्या के बाद मनदीप और अंकित ने रामफल के शव को उसी की कार की डिग्गी में डाला और कार उसके ठेके के बाहर कार खड़ी करके फरार हो गए थे।

गौरतलब है कि उकलाना में शराब ठेकेदार रामफल कुंडू उर्फ बच्ची की 30 दिसंबर को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। रामफल का शव उसकी खुद की गाड़ी की डिग्गी में मिला था। शव पर कपड़ा डालकर उसे ढका गया था। सिर में गोली लगने से रामफल की मौत हुई। क्राइम सीन की टीम ने मौके पर पहुंचकर साक्ष्य जुटाए थे। गाड़ी की तलाशी ली तो एक रिवॉल्वर और कारतूस बरामद हुआ।