मजदूरों ने 4 घंटे बंद रखा सचिवालय का गेट:सरकार के खिलाफ की नारेबाजी, श्रम कल्याण बोर्ड का फंड जारी करने की मांग

हिसार2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राजगढ़ रोड़ पर प्रदर्शन करते हुए मजदूर। - Dainik Bhaskar
राजगढ़ रोड़ पर प्रदर्शन करते हुए मजदूर।

हरियाणा के हिसार में गुरुवार को सैंकड़ों मजदूरों ने जिला सचिवालय के आगे प्रदर्शन किया। मजदूर क्रांतिमान पार्क में इकट्‌ठे हुए उसके बाद प्रदर्शन करते हुए सचिवालय तक पहुंचे। मजदूरों के प्रदर्शन के कारण चार घंटे तक सचिवालय का मुख्य गेट बंद रहा। भवन निर्माण कामगार यूनियन ने चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि जल्द से जल्द उनकी मांगों को नहीं माना गया तो आगामी समय में बड़े आंदोलन की रुपरेखा तैयार की जाएगी। यूनियन ने सरकार और प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और उपायुक्त को ज्ञापन दिया।

मजदूर यूनियन ने हिसार के प्रत्येक चौक पर लेबर शेड बनाए जाने, मजदूरों की मजदूरी ना दिए जाने वालों के खिलाफ जल्द कार्यवाई व मजदूरों की वेरिफिकेशन में यूनियन को अधिकार दिए जाने की मांग रखी।

सचिवालय के मुख्य गेट के आगे धरने पर बैठे मजदूर
सचिवालय के मुख्य गेट के आगे धरने पर बैठे मजदूर

सीआईटीयू के राज्य उपाध्यक्ष सुरेश ने बताया कि मजदूरों को मिलने वाले लाभ के फार्म अलग जिलों में चैक किए जाते हैं, यदि वहीं फार्म जिले में चैक किए जाएं तो मजदूरों को दूसरे जिले के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। श्रम कल्याण बोर्ड में पांच हजार करोड़ रुपए हैं, जो केवल मजदूरों को दिए जाने हैं, लेकिन फार्म रद्द किए जा रहे हैं और मजदूरों को इसका लाभ नहीं मिल रहा है। सुरेश कुमार ने कहा की यदि जल्द से जल्द उनकी समस्याओं का समाधान नहीं किया गया तो इस सांकेतिक धरने को अनिश्चितकालीन धरने में तब्दील किया जाएगा।

निर्माण सामग्री को भी सस्ता किया जाए

वहीं भवन निर्माण कामगार मजदूर यूनियन हरियाणा के प्रदेश अध्यक्ष देशराज ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा की हरियाणा में श्रम कानून 2007 में बनाए गए जो 2014 तक ठीक चले। सरकार ने अब श्रम कानूनों के साथ बेमानी वाली शर्तें लगाकर मजदूरों को लाभ से वंचित किया गया है। मजदूरों की मांग है की एक्ट के अंदर सामाजिक सुरक्षा को सुनिश्चित किए जाने के साथ साथ निर्माण सामग्री को भी सस्ता किया जाए।

खबरें और भी हैं...